Investment Plan Archives - earn money online hindi news: Sunnywebmoney.com

SunnyNovember 17, 2018
NBT.jpg

1min60

भुवनेश्वर, 17 नवंबर (भाषा) ओडिशा को हाल में संपन्न ‘मेक इन ओडिशा’ शिखर सम्मेलन में 4.19 लाख करोड़ रुपये से अधिक के निवेश प्रस्ताव मिले हैं। राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने अगले दो साल में इन प्रस्तावों में से 75 प्रतिशत को अमल में लाने का लक्ष्य रखा है। एक अधिकारी ने यह बात कही। उद्योग सचिव संजीव चोपड़ा ने कहा कि निवेश सम्मेलन बृहस्पतिवार को समाप्त हुआ और यह संतोषजनक रहा। उन्होंने कहा कि यह सम्मेलन ओडिशा के औद्योगिक यात्रा में अहम साबित होगा क्योंकि राज्य को 15 विभिन्न क्षेत्रों में 4,19,574 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव मिले हैं। चोपड़ा ने शुक्रवार को कहा, “मुख्यमंत्री ने मेक इन ओडिशा (एमआईओ) में प्राप्त निवेश प्रस्तावों पर दो साल में 75 प्रतिशत काम करने का लक्ष्य रखा है।” निवेश प्रस्ताव के क्रियान्वयन से राज्य में 5,91,000 अतिरिक्त रोजगार सृजित होंगे। उन्होंने कहा, “इस बार 2016 में हुये निवेश सम्मेलन से दोगुने से अधिक निवेश प्रस्ताव प्राप्त हुये हैं। 2016 में 2.03 लाख करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव मिले थे।” निवेशक सम्मेलन को 5,074 उद्योगपतियों और प्रतिनिधियों से बेहतर प्रतिक्रिया मिली। इसमें देश- विदेश के उद्योगपतियों ने भाग लिया। इस दौरान लगाई गई प्रदर्शनी में 31,806 लोग पहुंचे। सम्मेलन में जापान को भागीदार देश के तौर पर शामिल किया गया।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
NBT.jpg

1min60

कानपुर :उप्र:, 16 नवंबर :भाषा: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज कहा कि भाजपा सरकार राज्य में निवेश बढाने का इरादा रखती है । योगी तीन दिवसीय यूपी डिफेंस एक्सपो—18 के समापन समारोह में बोल रहे थे ।उन्होंने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था की बेहतर स्थिति की गयी है ताकि उद्योग और निवेश के अनुकूल माहौल तैयार किया जा सके ।मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी उत्तर प्रदेश में निवेश बढाना चाहते हैं । डिफेंस कारिडार बनाने के लिहाज से उत्तर प्रदेश पूरी तरह अनुकूल है ।उन्होंने कहा कि डिफेंस कारिडार के लिए इंतजामात शुरू हो चुके हैं और जनवरी 2019 में भूमि पूजन के बाद आधारशिला रखी जाएगी । योगी ने कहा कि ‘निवेश मित्र’ पोर्टल के जरिए उद्यमियों को हरसंभव सहायता पहुंचायी जाएगी । मुख्यमंत्री ने कहा कि रक्षा उत्पादों की आपूर्ति में यूपी डिफेंस कारिडार मील का पत्थर साबित होगा ।डिफेंस कारिडार बनाने के लिए ही डिफेंस एक्सपो का आयोजन किया गया, जहां रक्षा उत्पादों के बारे में लोगों को जानकारी दी गयी। योगी ने कहा कि आने वाले पांच साल में राज्य में 50 हजार करोड रूपये का निवेश होगा और इससे ढाई लाख युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे ।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
NBT.jpg

1min80

नयी दिल्ली, 16 नवंबर (भाषा) टाटा इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन के निदेशक मंडल ने 450 करोड़ रुपये के 45 लाख शेयरों की पुनर्खरीद के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। कंपनी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। कंपनी के निदेशक मंडल की शुक्रवार को हुई बैठक में कुल चुका इक्विटी शेयर पूंजी के 8.17 प्रतिशत के बराबर शेयरों की 1,000 रुपये प्रति शेयर पर पुनर्खरदी के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। कंपनी ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में यह जानकारी दी। शेयर पुनर्खरीद के आकार में इसके लिए किए जाने वाले खर्च मसलन शुल्क और परामर्श, प्रकाशनों में इसकी सार्वजनिक घोषणा, छपाई और भेजना शामिल नहीं है। कंपनी ने कहा है कि पुनर्खरीद के लिए शेयरधारकों की मंजूरी विशेष प्रस्ताव के जरिये डाक मत से ली जाएगी।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 15, 2018
1542263759_-.jpg

1min90

प्रतीकात्मक तस्वीर
अपने बच्चे के भविष्य के लिए शुरू से ही बचत करना पैरंट्स की प्राथमिकता होती है। ऐसे में कई पैरंट्स के लिए चिंता का विषय बना रहता है कि इनवेस्टमेंट कैसे और कहां किया जाए। इसलिए, यह फैसला करने से पहले ढेर सारी प्लानिंग और रीसर्च जरूरी होती है। अगर आप भी इस असमंजस में हैं कि इन्वेस्टमेंट के कौन से तरीके को अपनाना चाहिए तो यहां जानें तीन बेस्ट फाइनैंशल प्रॉडक्ट्स जो आगे चलकर आपके बच्चे के बहुत काम आ सकते हैं।

हालांकि, इससे पहले हम आपको यह बताएं कि कहां इन्वेस्ट करें, यह जानना भी जरूरी है कि कैसे इन्वेस्ट करें। इसके लिए बच्चे की लाइफ की अलग-अलग स्टेज के हिसाब से इन्वेस्टमेंट प्लान करें और समय के साथ बदलती महंगाई दर का भी ध्यान रखें। जैसे, 6% महंगाई दर से बढ़ती हुई किसी इंजिनियरिंग कोर्स की फीस अभी 4 लाख से बढ़कर 16 साल में 10 लाख तक पहुंच सकती है। इसलिए, 15% के ग्रोथ रेट के हिसाब से आपको हर महीने ₹1,300 रुपए इन्वेस्ट करने होंगे।

अब जानें, तीन बेस्ट इन्वेस्टमेंट प्रॉडक्ट्स जिनकी मदद से आप जरूरी बच कर सकते हैं-

यह भी पढ़ें: ये टिप्स अपनाएंगे तो नहीं होगी बच्चों की शिक्षा और शादी की टेंशन

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड(PPF)

कई दशकों से PPF इन्वेस्टमेंट का जांचा-परखा तरीका बना हुआ है। इसके पीछे दो कारण हैं-टैक्स फ्री सालाना इंटरेस्ट और सालाना कंपाउंडिंग। यह बेहद
सेफ इन्वेस्टमेंट इसलिए भी है क्योंकि इसके इंटरेस्ट और प्रिंसिपल की सॉवरेन गारंटी (सरकार की गारंटी) होती है। PPF अकाउंट अपने या नाबालिग के नाम पर खोला जा सकता है। हालांकि, इसमें
एक साल में अधिकतम ₹1.5 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं। इन्वेस्ट किए गए प्रिंसिपल पर इनकम टैक्स ऐक्ट, 1961 के सेक्शन 80C के तहत एक वित्तीय वर्ष में ₹1.5 लाख की टैक्स छूट मिलती है। इसके लिए दोनों अकाउंट्स को गिना जाता है।

खास बात यह है कि PPF का समय
15 साल तक के लिए होता है। इसलिए कंपाउंड इंटरेस्ट इतने साल तक लगने के बाद ज्यादा होता है। आप अपने और बच्चे दोनों का अकाउंट खोलकर उसमें पैसे जमा करते रह सकते हैं। जब बच्चा बालिग हो जाए तो वह खुद उसमें जमा करते रह सकते हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि बच्चे को
15 साल के लॉक-इन पीरियड का इंतजार नहीं करना होगा क्योंकि वह पैरंट्स के समय से चल रहा है। बच्चा चाहे तो आगे जाकर इसे 5-5 साल के बढ़ाते रह सकता है जिससे टैक्स पर छूट मिल सके।

सुकन्या समृद्धि योजना

सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना बेटियों की पढ़ाई और उनकी शादी में आर्थिक मजबूती देने के इरादे से शुरू की गई है। यह अकाउंट
10 साल से कम उम्र की बच्ची के नाम पर खोल जा सकता है। एक परिवार की अधिकतम दो बेटियों के नाम पर अकाउंट खोले जा सकते हैं और एक बेटी के नाम पर दो अकाउंट नहीं खोले जा सकते। जब बच्ची 10 साल से बड़ी हो जाएगी तो पैरंट्स के साथ-साथ वह खुद अपना अकाउंट चला सकेगी।

इस अकाउंट से पैसे बेटी के
18 साल की होने के बाद निकाले जा सकते हैं। पिछले साल के अकाउंट बैलेंस का अधिकतम 50% हिस्सा आगे की पढ़ाई के लिए निकाला जा सकता है।
खुलने के 21 साल बाद तक यह अकाउंट चल सकता है। बेटी की उम्र का इसपर कोई फर्क नहीं पड़ेगी। हालांकि, पैरंट्स चाहें तो उसकी शादी के लिए पहले भी इसे बंद कर सकते हैं। उन्हें एक ऐफिडेविट देना होगा कि बेटी की उम्र शादी के वक्त 18 साल से कम नहीं है।

इस योजना में सबसे ज्यादा टैक्स-फ्री रिटर्न्स मिलते हैं और यहां भी गारंटी सरकार की होती है। यहां प्रिंसिपल, इंटरेस्ट और फाइनल अमाउंट, सब टैक्स फ्री हैं। इसके लिए
अकाउंट पोस्ट ऑफिस या बैंक में भी खुलवाया जा सकता है। अगर बैंक या पोस्ट-ऑफिस में सुविधा हो तो अकाउंट में डिपॉजिट ई-ट्रांसफर भी किया जा सकता है।

अकाउंट खोलने के लिए शुरुआती अकाउंट
कम से कम ₹250 का पहला डिपॉजिट चाहिए होता है और हर साल 1.5 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं। अकाउंट ऐक्टिव रखने के लिए शुरू के 15 साल डिपॉजिट करना होता है।


इक्विटी म्यूचुअल फंड्स


जब कम से कम 10 साल बाद की जरूरतों के लिए इन्वेस्टमेंट करना हो महंगाई दर ध्यान में रखते हुए भी अच्छा रिटर्न इक्विटी म्यूचुअल फंड्स से मिल सकता है। ये इक्विटिड को ऐसेट के रूप में इस्तेमाल करते हैं। इसके लिए
लार्ज-कैप फंड्स को चुनना बेहतर होता है। ये स्थापित कंपनियों में पैसे लगाते हैं और इनमें रिस्क कम होता है। इनमें अच्छा फायदा भी होता है और मार्केट के नीचे जाने पर नुकसान भी कम होता है।

मिड-कैप फंड्स अचानक बढ़ते तो हैं लेकिन मार्केट के साथ ही धड़ाम से नीते भी आते हैं। आप अच्छे ट्रैक-रेकॉर्ड वाली मल्टी-कैप स्कैप स्कीम्स में भी इन्वेस्ट कर सकते हैं। ध्यान रखें, बच्चे की जरूरतों के लिए 3-4 से ज्यादा फंड्स ना रखें।

लंबे समय का होने के कारण इक्विटी में बहुत फा.दे हैं लेकिन एक बार आप
अपने लक्ष्य से तीन साल से कम की दूरी पर पहुंच जाएं तो मार्केट पर नजर रखना शुरू कर दें। यह इसलिए जरूरी है ताकि जितना कुछ आपने इतने साल में कमाया है उसे खोने का रिस्क कम करते रहें।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 14, 2018
investmentkbchow-to-invest.jpg

4min110


निवेश का फंडा बताएंगे केबीसी के विनर

Web Title:kbc winner will tell you how to invest

(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

1/5

अगर आपको एक करोड़ रुपये मिल जाएं, तो आप क्या करेंगे? विदेश में छुट्टियां मनाएंगे, या एक मस्त सी कार खरीदेंगे या अपने परिवार के लिए बेशकीमती तोहफा खरीदना चाहेंगे। या फिर कौन बनेगा करोड़पति (केबीसी) के विजेताओं हर्षवर्धन नवाथे की तरह हायर एजुकेशन के लिए उन पैसों का निवेश करेंगे? अचानक मिली बड़ी रकम आपकी इच्छाएं पूरी कर सकती है और आपकी वित्तीय समस्याएं दूर कर सकती है। आइए, कुछ ऐसे ही लोगों से जानते हैं कि उन्होंने केबीसी में जीती रकम का किस तरह निवेश किया और उसकी मदद से अपने लक्ष्यों को पूरा किया।

2/5

​ क्या कहते हैं एक्सपर्ट

​ क्या कहते हैं एक्सपर्ट

लैडर 7 फाइनैंशल एडवाजरीज के संस्थापक सुरेश सदगोपन कहते हैं, ‘जब किसी के अचानक पैसे आते हैं, जैसे इनाम या लॉटरी से, तो भावुक होकर वे गलत फैसला कर बैठते हैं। अचानक पास आए धन को लोग भ्रमित करके गलत निवेश में रकम फंसा सकते हैं। इसलिए ऐसी स्थिति में जरूरी है कि आप एक इन्वेस्टमेंट मैनेजर को हायर करें और बेकार के इन्वेस्टमेंट से खुद को दूर रखें।’

3/5

लक्ष्य स्पष्ट रखें

 लक्ष्य स्पष्ट रखें
हर्षवर्धन नवाथे

जीत की राशिः 1 करोड़
सालः 2000
जीत के समय आयुः 27
कहां किया निवेशः एक कार खरीदी और बाकी रकम इक्विटी व डेट म्यूचुअल फंड में निवेश किया। बाद में रकम की कुछ राशि का इस्तेमाल एमबीए करने में किया। उन्होंने बाद में एक घर भी खरीदा।

हर्षवर्धन ने क्या कहाः एक करोड़ जीतने वाले पहले शख्स नवाथे का भी अनुभव ही कुछ ऐसा ही था। उन्होंने कहा, ‘मुझे कई लोगों से निवेश के कई प्रस्ताव मिले। सही फैसला करना काफी कठिन था। हालांकि, मैं इस बात को लेकर स्पष्ट था कि मुझे करना क्या था।’

4/5

लॉन्ग टर्म निवेश में फायदा

 लॉन्ग टर्म निवेश में फायदा
अनामिका मजूमदार

जीत की राशिः 1 करोड़
जीत के वक्त आयुः 42
कहां किया निवेशः जीत की अधिकांश रकम इक्विटी फंड में लगाया। कुछ पैसे आदिवासी गांवों में शौचालय व सड़कों की मरम्मत में लगाया।

अनामिका ने क्या कहाः फिलहाल बाजार गिरावट पर है। लेकिन मैं लॉन्ग टर्म के लिए निवेश में फायदा देखती हूं। ऐसे वक्त में निकल भागने में फायदा नहीं है। मैं अपने निवेश को बढ़ता हुआ देखना चाहती हूं। इंतजार का फल मीठा होता है।

5/5

सूझबूझ से करें निवेश

सूझबूझ से करें निवेश
अचिन और सार्थक नरूला

जीत की राशिः 7 करोड़
सालः 2014
जीत के वक्त आयुः 28 साल
कहां किया निवेशः जीत की एक तिहाई राशि को तीन कैफे में निवेश किया। कुछ रकम डेट म्यूचुअल फंड, फिक्स्ड डिपॉजिट और सरकारी बांड में भी निवेश किया।

अचिन नरुला ने क्या कहाः जब आपकी किस्मत बदलती है और आपके पास काफी सारे पैसे आते हैं, तो उसका इस्तेमाल बेहद सूझबूझ के साथ करना चाहिए। जब मैंने रकम जीती तो मुझे काफी सारे ऑफर आए, जिसमें मुझे भारी रिटर्न दिलाने का भरोसा दिया गया। लेकिन हमने सोच-समझकर कदम उठाया और विभिन्न साधनों में निवेश किया।

FROM WEB

FROM NAVBHARAT TIMES

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 14, 2018
1542201036_TN_placeholder.png

1min120

बाल दिवस हर साल 14 नवंबर को मनाया जाता है।&nbsp | &nbspतस्वीर साभार:&nbspBCCL

बच्चों के आगमन पर सबसे अच्छी सभी चीजें प्रदान करना सभी माता-पिता का एजेंडा बन जाता है। बाहर खाने का बजट शीघ्र ही नवजात बच्चों के लिए डायपर और प्रसाधन सामग्री के द्वारा प्रतिस्थापित हो जाता है। आपकी खरीददारी की सूची आपके बच्चो के कपड़ों और सहायक सामान से हर बार बढ़ती जाती है। हर साल 14 नवंबर को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के तौर पर मनाया जाता है।

ये धनराशि के समायोजन अल्पकालिक होते हैं और इनके लिए व्यापक योजना की जरूरत नहीं होती है, जबकि अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल को सुनिश्चित करने के लिए आगे आने वाले समय में योजना बनाने की जरूरत होती है- यहाँ तक कि जब आप आस-पास नहीं होते हैं। यहाँ कुछ आसान कदम हैं जिन्हें आपको यह सुनिश्चित करने के लिए उठाने चाहिए कि जब आपका बच्चा कॉलेज जाने वाला हो तो आपके पास समुचित मात्रा में धनराशि हो।

जल्दी शुरूआत करें
प्रत्येक गुजरते दिन के साथ शिक्षा के खर्च केवल बढ़ते ही जाते हैं। इसलिए एक पाठ्यक्रम जिसकी लागत फिलहाल रु. 10-12 लाख है वही अब से 15 वर्षों में बढ़कर लागत रु. 30-50 लाख हो जाएगी। जब आप पने बच्चों की जरूरतों के लिए फंड की गणना करते हैं, मुद्रास्फीति में लेखा-दोखा करके भावी लागतों का आकलन करते हैं। कॉलेज के लिए संग्रह करना एक दीर्घकालिक योजना है तथा यदि आप बच्चे के जन्म के समय से ही निवेश करना शुरू कर देते हैं, तो आपको अपने व्यवस्थापन के लिए दो दशक मिलते हैं। चक्रवृद्धि विकास के प्रभाव से आपके लिए छोटे, मासिक योगदान से फंड बनाना संभव होता है।

म्यूचुअल फंड में निवेश करें
संपत्ति बनाने के लिए म्यूचुअल फंड आपके लिए अलग-अलग निवेश विकल्प प्रदान करते हैं। अपनी निवेश की चाह तथा निवेश की सीमा के अनुसार, आप इक्विटी म्यूचुअल फंड, बेलेंस्ड म्यूचुअल फंड तथा डेट फंड का चयन कर सकते हैं। आय की संभावना म्यूचुअल फंड की आधारभूत संपत्तियों से जुड़े जोखिम पर निर्भर करती है। उदाहरण के लिए, इक्विटी पर आधारित म्यूचुअल फंड में दीर्घकाल में अधिक आय की संभावना होती है क्योंकि वे शेयरों में निवेश करते हैं तथा संबद्ध जोखिम अपेक्षाकृत अधिक होता है। आप शामिल उतार-चढ़ाव को कम करने के लिए एसआईपी (SIP) माध्यम को भी चुन सकते हैं। आप एसआईपी (SIP) निवेश रु. 500/- जितनी छोटी राशि से भी शुरू कर सकते हैं।

छोटे निवेश से शुरूआत करके इसे बढ़ाएं
जिस फंड को आप बढ़ाना चाहते हैं वह बड़ा हो सकता है लेकिन इसके आकार से भयभीत न हों। आप सदैव छोटे से शुरूआत कर सकते हैं और इसे बढ़ा सकते हैं। उदाहरण के लिए, मान लें कि फिलहाल आप प्रति माह रु. 50,000 कमाते हैं और आप रु. 10,000 की बचत करते हैं। अगले वर्ष, जब आपकी आय 10% तक बढ़ती है, तो आप साथ ही साथ अपनी बचत को भी 10% तक बढ़ा सकते हैं। यह आपको छोटे-छोटे चरणो से जल्दी शुरूआत करना संभव करेगा जब आपके पास सीमित साधन हैं। आपकी आय बढ़ने पर आप इसे सदैव आगे बढ़ा सकते हैं।

बीमा पॉलिसी खरीदें
वित्तीय पोर्टफोलियो में जीवन बीमा और स्वास्थ्य बीमा प्रोडक्ट की बहुत अधिक जरूरत है। जीवन बीमा आपकी अनुपस्थिति में भी आपके परिवार को वित्तीय रूप से सुरक्षित रखना सुनिश्चित करता है। अपने परिवार को आर्थिक रूप से ऋणमुक्त रखने तथा अपने बच्चों को उनके लक्ष्यों को हासिल करने में मदद के लिए अपने वार्षिक वेतन का 10-20 गुना राशि के लिए लक्ष्य बनाएं।

बढ़ते हुए स्वास्थ्य देखभाल खर्च को दूर रखने के लिए, अपने वित्तीय पोर्टफोलियो में स्वास्थ्य बीमा को जोड़ें। अपने कॉर्पोरेट बीमा पर पूरी तरह से निर्भर न रहें, क्योंकि दीर्घकाल में यह आपके परिवार के लिए पर्याप्त नहीं हो सकता है। इसके अलावा यदि आप अस्थाई रूप से अपने रोजगार से बाहर हैं या एक रोजगार से दूसरे में जा रहे हैं, तो आप अपने कॉर्पोरेट बीमा के अंतर्गत नहीं आएंगे। इसलिए, अपने तथा अपने परिवार को पर्याप्त रूप से कवर करने के लिए एक अलग पॉलिसी जोड़ें।

एक आपातकालीन फंड बनाएं
अंतिम लेकिन महत्वपूर्ण बात यह है कि किसी अप्रत्याशित परिस्थितियों का सामना करने के स्थिति में अपने किराए, शिक्षा शुल्क, उपयोगी सेवाओं तथा अन्य नियमित परिवार के खर्चों को पूरा करना जारी रखने के लिए वर्ष की आय के छह महीने के समतुल्य नकद फंड रखें। अचानक रोजगार छूटना या स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं आपको साथ ही साथ कई दिनों और महीनों तक बेकाम रख सकती हैं। आप इसके कारण अपने बच्चों की शिक्षा बाधित नहीं कर सकते हैं या किराए का भुगतान करना बंद नहीं कर सकते हैं। ऐसी स्थितियों में आपातकालीन फंड सुविधाजनक होता है।

(आदिल शेट्टी, सीईओ, बैंक बाजार)
(डिस्क्लेमर: ये लेखक की निजी राय है। आप कोई भी फैसला लेने से पहले वित्तीय सलाहकार की मदद जरूर लें।)

कारोबार  से जुड़ी और खबरें  यहां  पढ़ें BUSINESS NEWS , टेक्नोलॉजी सेक्शन के लिए  TECH NEWS पर क्लिक करें  और कार, बाइक से जुड़ी खबरें AUTO NEWS में पढ़ें। देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 14, 2018
Best-child-investment-plan-32_5.jpg

2min110

नई दिल्‍ली:  

देश आज बाल दिवस (Children’s Day) मना रहा है. इस दिन अगर बच्‍चे के नाम पर निवेश (Investment) शुरू किया जाए वह बड़ा होकर पूरी तरह से वित्‍तीय रूप से आत्‍मनिर्भर हो सकता है. थोड़ी से रकम से शुरू किया गया निवेश (Investment) बच्‍चे को करोड़पति (Crorepati) भी बना सकता है. आइए जानते हैं कि कितने रुपए से निवेश शुरू करके कितने साल में बच्‍चे को करोड़पति (Crorepati) बना सकते हैं.

ऐसे करें प्‍लानिंग
इस तरह की प्‍लानिंग आसान है. इसमें निवेश (Investment) की शुरुआत 1400 रुपए से शुरू करनी है. फिर इसमें हर साल 15 फीसदी की बढ़ोत्‍तरी करनी है. इसका मतलब हुआ कि पहले साल 1400 रुपए का निवेश (Investment) अगले साल बढ़कर 1610 रुपए का हो जाएगा. इसी तरह इस निवेश को आगे बढ़ाते रहना है. इस निवेश (Investment) पर अगर 12 फीसदी का रिटर्न (Returns) मिले तो 25 साल में यह 1 करोड़ रुपए (Crorepati) हो जाएगा.

कहां करना होगा निवेश
फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म बीपीएन फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम के अनुसार लम्‍बे समय तक अगर निवेश (Investment) किया जाए तो अच्‍छा रिटर्न (Returns) मिल सकता है. इतना अच्‍छा रिटर्न म्‍युचुअल फंड (Mutual Funds) में आसानी से पाया जा सकता है. करीब एक दर्जन से ज्‍यादा अच्‍छे म्‍युचुअल फंड (Mutual Funds) ने पिछले एक साल में 50 फीसदी से ज्‍यादा का रिटर्न (Returns) दिया है. लम्‍बे समय में इन फंड का रिटर्न 12 फीसदी से भी अच्‍छा रहा है. अगर इन अच्‍छे फंड में निवेश किया जाए तो आराम से 12 फीसदी तक का रिटर्न (Returns) पाया जा सकता है.

और पढ़े : ये हैं बिना Loan के Car लेने का तरीका, 2 लाख रुपए पड़ेगी सस्‍ती 

Mutual Funds में निवेश की योजना पर एक नजर
-1400 रुपए से सेविंग की करें शुरुआत
-हर साल इसको बढ़ाएं 15 फीसदी
-इस पर मिले 12 फीसदी रिटर्न
-25 साल में हो जाएगा 1 करोड़ रुपए (Crorepati)

5 साल में अच्‍छा रिटर्न देने वाले 5 म्‍युचुअल फंड (Mutual Funds)

1. SBI Small Cap Fund का रिटर्न 31.22 फीसदी
2. Reliance Small Cap Fund का रिटर्न 30.85 फीसदी
3. Mirae Asset Emerging Bluechip Fund का रिटर्न 28.74 फीसदी
4. Canara Robeco Emerging Equities Fund का रिटर्न 27.92 फीसदी
5. DSP Small Cap Fund का रिटर्न 27.07 फीसदी

और पढ़ें : Petrol Pump मिलती हैं ये 6 चीजें बिल्‍कुल मुफ्त, न दे तो एक शिकायत पर रद हो जाएगा लाइसेंस

नोट : डाटा 13 नबंवर 2018 का. 5 साल का रिटर्न CAGR (हर साल मिला औसत रिटर्न) है.

(नोट- निवेश सलाह मार्केट एक्सपर्ट्स की हैं, कृपया निवेश से पहले अपने वित्‍तीय सलाहकार से राय जरूर लें.)

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 14, 2018
1542167955_-.jpg

1min120

निवेश का सही विकल्प देगा सुरक्षा
नई दिल्ली

अच्छी और खुशहाल जिंदगी के लिए पैसा तो जरूरी है ही, लेकिन उसे कैसे और कहां निवेश करें यह सीखना भी जरूरी है। भविष्य की सुरक्षा के लिए वर्तमान में पैसे बचाना काफी नहीं होता है, उसे सही जगह पर लगाना और बढ़ाना भी आना चाहिए। अगर आपके पास आज कुछ पैसे हैं और उन्हें आप दीर्घकालीन अवधि के लिए इनवेस्ट करना चाहते हैं तो आपके काम आ सकते हैं यह विकल्प।

फिक्स डिपॉजिट

लोग छोटी या बड़ी रकम को सुरक्षित रखने और ज्यादा ब्याज के लिए फिक्स डिपॉजिट करते हैं। सामान्य सेविंग अकाउंट में ब्याज कम मिलता है। फिक्स डिपॉजिट की रकम एक साथ जमा की जाती है जबकि रेकरिंड डिपॉजिट में निर्धारित समय पर थोड़ी-थोड़ी करके राशि देनी होती है। एफडी अकाउंट को 7 दिन से लेकर 10 साल की अवधि के लिए खोला जा सकता है। फिक्स डिपॉजिट में ब्याज मिलने के बाद हुई राशि पर अगला ब्याज लगता है। बैंक एफडी पर 70 से 90 प्रतिशत तक का लोन देते हैं। आम तौर पर भविष्य में बच्चों की पढ़ाई, बेटी की शादी जैसे कामों के लिए ग्रामीण और छोटे शहरों में आज भी फिक्स डिपॉजिट को सबसे सुगम विकल्प माना जाता है।

चल संपत्ति में निवेश लॉन्ग टर्म के लिए

अगर आपके पास पैसों की मात्रा अधिक है तो जमीन, रियल एस्टेट या चल संपत्ति में निवेश लॉन्ग टर्म में आपको फायदा देता है। जमीन में निवेश एक लोकप्रिय विकल्प इसलिए भी है क्योंकि जमीन की कीमत अपवादों को छोड़ दिया जाए तो आम तौर पर बढ़ती ही है। प्रॉपर्टी में निवेश के लिए 1 साल का वक्त काफी कम है। आपको कम से कम 3-5 साल के लिए निवेश करना चाहिए।

पीपीएफ में करें निवेश

पीपीएफ में कोई भी भारतीय निवेशक निवेश कर सकता है और यह लॉन्ग टर्म के लिए खास तौर पर सर्विस क्लास लोगों के लिए अच्छा ऑप्शन है। इसमें निवेश सीमा न्यूनतम 500 रु है और अधिकतम निवेश सीमा 150000 रु है। पीपीएफ में भी 80सी के तहत टैक्स छूट का फायदा मिलता है और रिटर्न भी टैक्स फ्री होता है। इसमें आपके निवेश पर 8.7 फीसद ब्याज मिलता है। पीपीएफ का पैसा 15 साल की मैच्योरिटी के बाद ही निकाला जा सकता है।

गोल्ड में करें निवेश

सोना को दीर्घकालीन निवेश के लिए हमेशा ही सुरक्षित विकल्प माना जाता है। इसकी वजह है कि यदि आप मध्य आय वर्ग के भी हैं तो आप इसे जरूरत के वक्त आसानी से बेच सकते हैं। निवेशकों के लिए यह लॉन्ग टर्म में काफी उपयोगी होता है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी दबाव की परिस्थितियों में विशेषज्ञ सोना को सही निवेश मानते हैं।

सरकारी बॉन्ड में करें निवेश

स्टॉक मार्केट में निवेश के लिए आपके पास जोखिम उठाने का साहस होना चाहिए। लॉन्ग टर्म में निवेश करनेवाले ज्यादातर लोग सुरक्षित विकल्प ही चाहते हैं और इसके लिए सरकारी बॉन्ड में निवेश सही कदम हो सकता है। 10 साल के सरकारी बॉन्ड पर इस वक्त 7.70 फीसदी का ब्याज मिल रहा है। इस लिहाज से यह सुरक्षित और अच्छा रिटर्न देनेवाला ऑप्शन माना जाता है।

Let’s block ads! (Why?)


Source link



Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories