Investment Plan Archives - earn money online hindi news: Sunnywebmoney.com

SunnyJanuary 16, 2019
1547600577_TN_placeholder.png

2min00

US President Donald Trump &nbsp | &nbspPhoto Credit:&nbspAP, File Image

Washington DC: US President Donald Trump on Tuesday praised German automaker Volkswagen for a planned $800 million investment in a US plant to build electric vehicles.

“Congratulations to Chattanooga and Tennessee on a job well done. A big win!” the president tweeted on the second day of the Detroit auto show. VW announced at the auto show Monday that it would expand its plant in the southern US city and create 1,000 jobs.

Times Network – India’s Leading Broadcasting Network, uniquely offering English Entertainment, best in class News channels & Bollywood Masala, available at a Value pack (7 channels) of Rs 13/- per month.

Please contact your cable/DTH service provider now and ensure that your TV viewing experience is complete. To know more click here

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyJanuary 15, 2019
NBT.jpg

1min50

नयी दिल्ली, 14 जनवरी (भाषा) केंद्र ने जम्मू-कश्मरी को कुछ अतिरिक्त प्रोत्साहन दिए हैं जिससे राज्य में निवेश को बढ़ावा मिल सके। औद्योगिक नीति एवं संवर्द्धन विभाग (डीआईपीपी) ने सोमवार को यह बात कही। डीआईपीपी ने कई ट्वीट कर कहा कि जम्मू-कश्मीर को संशोधित औद्योगिक विकास योजना के तहत चार प्रोत्साहन दिए गए है जिनमें….रोजगार प्रोत्साहन, परिवहन प्रोत्साहन, सीजीएसटी और आईजीएसटी कें केंद्रीय हिस्सा की वापसी और आयकर में केंद्र के हिस्से की वापसी का प्रोत्साहन शामिल है। डीआईपीपी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए संशोधित औद्योगिक विकास योजना को केंद्र सरकार ने मंजूरी देते हुए इसे एक जनवरी, 2019 को अधिसूचित किया है। इसमें चार और प्रोत्साहन दिए गए हैं, जबकि जम्मू-कश्मीर में स्थित औद्योगिक इकाइयों को पहले से तीन प्रोत्साहन दिए जा रहे थे। परिवहन प्रोत्साहन के तहत औद्योगिक इकाई के नजदीकी रेलवे स्टेशन से खरीदार के नजदीकी गंतव्य के रेलवे स्टेशन तक तैयार माल के परिवहन खर्च की वापसी की जाएगी।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyJanuary 12, 2019
-.jpg

1min70

सांकेतिक तस्‍वीर
What are the 4 types of investments: कई ऐसे सेक्‍टर्स हैं जिनमें आप अपना पैसा इन्‍वेस्‍ट कर सकते हैं। आइए जानते हैं 4 बेस्‍ट तरीकों के बारे में –

1. म्यूचुअल फंडस

शेयर बाजार में पहली बार निवेश करने वालों के लिए म्यूचुअल फंड सबसे उचित ऑप्‍शन है। इसमें आपको कम जोखिम पर अच्‍छा रिटर्न मिलने की संभावना रहती है। इसमें आपको सीधे निवेश नहीं करना होता बल्कि म्यूचुअल फंड आपके पैसे का मैनेजमेंट करते हैं। म्यूचुअल फंड सालाना 15 से 17 परसेंट तक का रिटर्न दे सकता है।

2. पीपीएफ और ईपीएफ

पीपीएफ (पब्लिक प्रोविडेंट फंड) और ईपीएफ (इंप्‍लॉई प्रोविडेंट फंड) में इन्‍वेस्‍ट करने में कम से कम खतरा होता है। इन दोनों तरीकों से निवेश करने पर लगभग 9 परसेंट की दर से रिटर्न मिलता है। इसमें किया गया इन्‍वेस्‍टमेंट टैक्‍स फ्री भी होता है। निवेश किए रकम पर मिलने वाला ब्‍याज भी टैक्‍स फ्री होता है। इनकम टैक्‍स की धारा 80 सी के तहत डेढ़ लाख रुपये तक के इन्‍वेस्‍ट पर टैक्‍स छूट का लाभ मिलता है।

3. फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट

यह पैसा इन्‍वेस्‍ट करने का सबसे आसान माध्‍यम है। इसलिए पहली बार निवेश करने वाले अपनी बचत से कुछ बेहतर रिटर्न पाने के लिए एफडी करवाते हैं। बाजार में उतार चढ़ाव या ब्‍याज दरों में कमी आपके निवेश पर रिटर्न को प्रभावित नहीं करेगी। यही कारण है कि ज्‍यादातर अनुभवी इन्‍वेस्‍टर भी एफडी में निवेश करना करते हैं।


4. किसान विकासपत्र


इसे केवीपी भी कहते हैं। यह बचत द्वारा पैसे को दोगुना करने का आसान और प्रचलित तरीका है। यह एक ऐसी बचत योजना है जिसमें पहले से निर्धारित आय मिलती है और इसे किसी भी डाकघर से लिया जा सकता है। यह स्‍कीम भी एफडी और नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट की तरह ही सुरक्षित है और इसमें निवेश पर जोखिम नहीं होता है।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyJanuary 10, 2019
investment.jpg

1min220

इन्वेस्टमेंट करते वक्त निवेशकों के मन में पहला सवाल यही होता है कि आखिर किसमें निवेश किया जाए कि अच्छा रिटर्न प्राप्त किया जा सके। दरअसल, अधिक रिटर्न के लिए जरूरी यह होता है कि फिक्स्ड इनकम प्रॉडक्ट्स की जगह मार्केट से जुड़े इन्वेस्टमेंट में पैसा लगाया जाए। आइए, जानते हैं कुछ हाई रिटर्न इन्वेस्टमेंट के बारे में…

  • शेयर्स और स्टॉक्स में निवेश का अर्थ है कि आप इक्विटी असेट्स क्लास से सीधे जुड़ रहे हैं। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज या फिर नैशनल स्टॉक एक्सचेंज से जुड़े शेयरों में पैसा लगाने का मतलब सेकंडरी मार्केट से है। यदि आप इनमें इन्वेस्ट करना चाहते हैं तो आपको किसी ब्रोकरेज हाउस के साथ डिमैट अकाउंट खुलवाना होगा।

  • यदि आप किसी बड़े रिस्क से बचना चाहते हैं तो यह जरूरी है कि स्टॉक्स में सीधे निवेश करने की बजाय अलग-अलग सेक्टर्स में पूंजी को देखते हुए पैसा लगाएं। फिलहाल, कुछ वर्षों में सेंसेक्स में रिटर्न का औसत 1-3 और 5 साल के अनुसार क्रमश: 13, 8 और 12.5 पर्सेंट रहा है।

  • अन्य इन्वेस्टमेंट्स के मुकाबले रियल एस्टेट की कीमतों में अस्थिरता बहुत ज्यादा नहीं रहती। सबसे अच्छी बात यह है कि महंगाई के मुकाबले इसकी कीमत अच्छी खासी बढ़ जाती है यानी इसमें निवेश घाटे का सौदा नहीं हो सकता। निवेश करने के लिहाज से यह अच्छा विकल्प हो सकता है।

मार्केट में ज्यादा रिस्क और ज्यादा रिटर्न देने वाले निवेश के ढेरों विकल्प मौजूद हैं। हालांकि, लोग ऐसे ऑप्शंस चुनते हैं, जो आपके पैसों को सुरक्षित रखने के साथ ही टैक्स बचाने में मदद करते हैं। यदि आप इक्विटी में निवेश करने में सहज नहीं हैं तो नजदीकी पोस्ट ऑफिस में जाकर कई विकल्पों को देख सकते हैं।

सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम
यदि आपकी उम्र 60 साल से ज्यादा है या यदि आपने 55 से 60 साल के बीच वीआरएस या रिटायरमेंट ले लिया है, या यदि आप एक रिटायर्ड डिफेंस पर्सनेल हैं और आपकी उम्र 50 साल से ज्यादा है तो इस स्कीम में निवेश कर सकते हैं। इसमें मैच्योरिटी पीरियड 5 साल है और इस पर हर साल 8.3% की दर से इंटरेस्ट मिलता है। 31 मार्च, 30 सितंबर और 31 दिसंबर में से किसी तारीख पर इससे पैसा निकाल सकते हैं। SCSS में आप ज्यादा से ज्यादा 15 लाख रुपये निवेश कर सकते हैं।

15 वर्षीय पब्लिक प्रोविडेंट फंड

लॉन्ग टर्म के लिए पब्लिक प्रोविडेंट फंड एक अच्छा चॉइस है। इसमें एक फाइनैंशल इयर में कम से कम 500 रुपये और ज्यादा से ज्यादा 1.5 लाख रुपये निवेश किया जा सकता है। वर्तमान में इस 15 वर्षीय PPF इन्वेस्टमेंट पर हर साल 7.6% इंटरेस्ट रेट मिलता है जो वार्षिक चक्रवृद्धि की दर से बढ़ता रहता है। इस प्लान में जमा की गई पूरी रकम पर आईटी ऐक्ट के सेक्शन 80C के तहत इनकम से डिडक्शन की सुविधा मिलती है। इस स्कीम के तहत कमाया गया ब्याज भी पूरी तरह टैक्स फ्री होता है जिससे PPF परंपरागत निवेशकों के लिए सबसे अधिक टैक्स एफिशिएंट इन्वेस्टमेंट बन जाता है।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyJanuary 6, 2019
NBT.jpg

1min130

हैदराबाद, पांच जनवरी (भाषा) देश के अलग-अलग हिस्सों के निवेशकों से कथित तौर पर हजारों करोड़ रुपये की धोखाधड़ी करने वाले अलग-अलग निवेश सलाहकार कंपनियों के चार मालिकों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। ये कंपनियां इंदौर से संचालित होती थी। साइबराबाद पुलिस ने एक विज्ञप्ति में बताया कि इन कंपनियों से 3.62 करोड़ रुपये की राशि जब्त की गई। अलग-अलग शिकायतों पर काम करते हुए पुलिस की एक टीम इंदौर गई और वहां कंपनियों पर छापे मारे गए तथा स्थानीय पुलिस और सेबी की मदद से आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyJanuary 5, 2019
NBT.jpg

1min190

मुंबई, चार जनवरी (भाषा) दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारा विकास निगम (डीएमआईडीसी) ने शुक्रवार को कहा कि औरंगाबाद इंडस्ट्रियल टाउनशिप लिमिटेड (ऑरिक सिटी) ने पिछले साल दिसंबर तक 3,600 करोड़ रुपये का निवेश आकर्षित किया है। उल्लेखनीय है कि ऑरिक सिटी दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारे के साथ नए सिरे से स्थापित किए जाने वाले स्मार्ट औद्योगिक शहरों में से एक है। ऑरिक सिटी ने कुल 5,07,164 वर्गमीटर माप के 50 प्लॉट आवंटित किए हैं। इन पर 3,600 करोड़ रुपये का निवेश प्रस्तावित है और इससे 2,000 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। डीएमआईडीसी ने गलियारे के साथ आठ औद्योगिक क्षेत्र विकसित करने का प्रस्ताव किया है। इनमें महाराष्ट्र में शेन्द्रा-बिदकिन इंडस्ट्रियल और दिघी पोर्ट औद्यो्गिक क्षेत्र, उत्तर प्रदेश में दादरी-नोएडा-गाजियाबाद, हरियाणा में मानेसर-बवाल, राजस्थान में कुशखेरा-भिवाड़ी-नीमराणा और जोधपुर-पाली-मारवाड़, मध्यप्रदेश में पीथमपुर-धार-मऊ और गुजरात में अहमदाबाद-धौलेरा स्पेशल निवेश क्षेत्र शामिल हैं। इस मामले में निवेश आकर्षित करने में दूसरा स्थान ग्रेटर नोएडा में स्थित एकीकृत औद्योगिक टाउनशिप का है। यहां कुल 3,404 करोड़ रुपये का निवेश आकर्षित हुआ है और इससे 6,600 प्रत्यक्ष रोजगार मिलने की उम्मीद है।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyJanuary 3, 2019
cph-1711383866-large.jpg

1min240

जींद. पावर हाउस के सामने पेंशन अधिकार रथयात्रा का स्वागत किया गया।

जींद | पुरानी पेंशन बहाल करने की मांग को लेकर 28 दिसंबर को पलवल से चलकर बुधवार को जींद पहुंची पेंशन अधिकार रथयात्रा का कर्मचारियों ने हांसी रोड स्थित पावर हाउस के सामने स्वागत किया। इसके बाद रथयात्रा शहर में होते हुए लघु सचिवालय पहुंची। जहां कर्मचारियों ने डीसी अमित खत्री को मांगपत्र सौंपा।

मंच संचालन जिला संयोजक सुरेंद्र मान ने किया। रथ यात्रा में शामिल पेंशन बहाली संघर्ष समिति के राज्य वरिष्ठ उपप्रधान अनूप लाठर ने कहा कि एनपीएस पेंशन स्कीम न होकर एक इन्वेस्टमेंट प्लान है इसके तहत कर्मचारी को कोई भी लाभ नहीं दिया गया है। पुरानी पेंशन पूर्णतया सरकार के संरक्षण पर आधारित है। उन्होंने कहा कि यह रथ यात्रा सात जनवरी को पंचकूला में समाप्त कर मुख्यमंत्री आवास का घेराव किया जाएगा। यदि 7 जनवरी तक पुरानी पेंशन स्कीम बहाल नहीं होती है तो 28 जनवरी को जींद में होने वाले उपचुनाव में पेंशन बहाली संघर्ष समिति बीजेपी के कैंडिडेट का पुरजोर विरोध करेगी।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyJanuary 2, 2019
post_office_investment_sc.jpg

2min180

न्यूज डेस्क। 2019 में आप पैसे इन्वेस्ट करने की सोच रहे हैं, तब पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स एक ऑप्शन बन सकती हैं। पोस्ट ऑफिस में ऐसी कई स्कीम चल रही हैं जिसमें आप मिनिमम और मैक्सिमम पैसे देकर फ्यूचर के लिए बचत कर सकते हैं। खास बात है कि इन स्कीम में आपका पैसा पूरी तरह सेफ रहता है।

पोस्ट ऑफिस में इंटरेस्ट रेट भी बैंक की तुलना में ज्यादा मिलता है। यहां पर अलग-अलग स्कीम्स में 6.9% से लेकर 8.5% तक का सालाना इंटरेस्ट मिलता है। हम यहां आपको सभी स्कीम पर मिलने वाले इंटरेस्ट रेट के बारे में बता रहे हैं।

1. पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट

> इस अकाउंट पर सिंगल या ज्वॉइंट अकाउंट पर 4.0% का सालाना इंटरेस्ट मिलेगा।

> मिनिमम 20 रुपए कैश देकर अकाउंट ओपन किया जा सकता है।

> 10,000 रुपए की राशि पर मिलने वाला इंटरेस्ट टैक्स फ्री रहेगा।

> कस्टमर को ATM फैसिलिटी भी मिलेगी।

2. रीकरिंग डिपोजिट अकाउंट (RD)

> इस अकाउंट पर 7.3​% का सालाना इंटरेस्ट मिलेगा।

> इस अकाउंट में मिनिमम 10 रुपए और मैक्सिमम 5 रुपए के मल्टीप्लाई में जमा कर सकते हैं।

> इस अकाउंट पर इनकम टैक्स सेक्शन 80C एप्लीकेबल नहीं है।

3. टाइम डिपोजिट अकाउंट (TD)

> इस अकाउंट को 5 साल के लिए खुलवा सकते हैं।

> मिनिमम 200 रुपए या इसकी मल्टीपल में जो भी अमाउंट आए उसे जमा किया जा सकता है।

> पहले साल में 6.9%, दूसरे में ​7.0%, तीसरे में 7.2% और पांचवें में 7.8​% इंटरेस्ट मिलता है।

4. मंथली इनकम स्कीम अकाउंट (MIS)

> इस अकाउंट में सालाना 7.3​% इंटरेस्ट मिलता है।

> अकाउंट को 1500 रुपए या उसके मल्टीपल अमाउंट में ओपन कर सकते हैं।

> सिंगल अकाउंट में मैक्सिमम 4.5 लाख और ज्वॉइंट अकाउंट में 9 लाख रुपए जमा कर सकते हैं।

5. सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (SCSS)

> इस अकाउंट में सालाना 8.7​% इंटरेस्ट मिलता है।

> मिनिमम 1000 रुपए या फिर इसके मल्टीपल में अमाउंट जमा कर सकते हैं।

> 15 लाख से ज्यादा अमाउंट जमा नहीं कर सकते।

6. पब्लिक प्रोविडेंट फंड अकाउंट (PPF)

> इस अकाउंट में सालाना 8.0​% इंटरेस्ट मिलता है।

> एक साल में मिनिमम 500 रुपए और मैक्सिमम 1.50 लाख रुपए जमा कर सकते हैं।

> इसमें 12 इंस्टॉलमेंट में डिपोजिट या फिर लंप-सम जमा कर सकते हैं।

7. किसान विकास पत्र (KVP)

> इस स्कीम में 7.7​​​​% सालाना कंपाउंडेड इंटरेस्ट मिलता है, जो किसी भी बैंक से ज्यादा है।

> इसमें 1000 रुपए के मल्टीपल में रुपए देने होते हैं। यानी 1000 रु, 2000 रु, 3000 रु या फिर अन्य अमाउंट।

> सारा पैसा एक बार में ही देना होगा। यानी इसमें हर महीने या साल में पैसे जमा करने का सिस्टम नहीं है।

> 1 लाख रुपए स्कीम लेते समय जमा करने होंगे, जो 9 साल 10 महीने के बाद 2 लाख रुपए बन जाएंगे।

8. सुकन्या समृद्धि स्कीम (SSA)

> इस स्कीम में 8.5% का सालाना इंटरेस्ट मिलता है।

> एक साल में मिनिमम 500 रुपए और मैक्सिमम 1.50 लाख रुपए जमा कर सकते हैं।

> इस अकाउंट का फायदा गर्ल चिल्ड्रन को मिलता है।

> लड़की की उम्र 21 साल होने पर अकाउंट बंद हो जाएगा।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyDecember 31, 2018
NBT.jpg

1min150

नयी दिल्ली, 30 दिसंबर (भाषा) रीयल एस्टेट क्षेत्र में संस्थागत निवेश 2014-18 के दौरान दोगुना होकर 20 अरब डॉलर तक पहुंच गया। रीयल एस्टेट क्षेत्र में नियामक जैसे कानून और एफडीआई नियमों में ढील इसकी वजह रही। संपत्ति से जुड़ी परामर्श देने वाली फर्म जेएलएल इंडिया ने यह आंकड़ा प्रस्तुत किया है। वैश्विक आर्थिक संकट के बाद 2009 से 2018 के बीच निजी इक्विटी कंपनियों, सरकारी संपत्ति कोष, बीमा कोष, पेंशन कोष इत्यादि के जरिए दो चरण में संस्थागत निवेश किये गए। जेएलएल इंडिया के मुख्य कार्यपालक अधिकारी और कंट्री प्रमुख रमेश नायर ने एक रपट में कहा है, “2009 से 2013 का पहला चरण संस्थागत निवेश के लिहाज से धीमा रहा जबकि 2014 से 2018 के दौरान संस्थागत निवेश में तेजी दर्ज की गयी।” रिपोर्ट में कहा गया है कि 2009-18 के दौरान भारतीय रीयल एस्टेट क्षेत्र ने 30 अरब डॉलर का संस्थागत निवेश आकर्षित किया। जिसमें से 20 अरब डॉलर का निवेश 2014-18 के दौरान हुआ। नायर ने कहा कि 2014 में शुरू हुए विभिन्न सुधारवादी कदमों का सकारात्मक प्रभाव पड़ने से संस्थागत निवेश में वृद्धि हुई। इनमें रीयल एस्टेट निवेश न्यासों के लिये सेबी के दिशानिर्देश (2014), सभी के लिये आवास (2015), रीयल एस्टेट विनियमन एवं विकास अधिनियम (2016), बेनामी लेनदेन (रोकथाम) संशोधन अधिनियम (2016) और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के नियमों में ढील जैसे सुधार शामिल है।

Let’s block ads! (Why?)


Source link