Education Archives - earn money online hindi news: Sunnywebmoney.com

SunnyNovember 17, 2018
17_11_2018-17grp18-c-1_18645970_161326.jpg

1min60

Publish Date:Sat, 17 Nov 2018 04:09 PM (IST)

संवाद सहयोगी, गुरदासपुर : कॉलेज रोड पर स्थित एजुकेशन व‌र्ल्ड में नीट और जेईई के क्रैश कोर्स 18 नवंबर से शुरू किए जा रहे हैं। मैने¨जग पार्टनर सोनिया सच्चर ने बताया कि इस वर्ष जेईई की परीक्षा दो बार जनवरी और अप्रैल तथा नीट की परीक्षा मई के महीने में ली जा रही है। 12वीं में पढ़ते छात्रों और साल ड्रॉप कर चुके छात्रों के लिए यह एक सुनहरा अवसर है कि वह गुरदासपुर में ही दिल्ली, चंडीगढ़ और कोटा के स्तर की को¨चग बहुत ही कीम फीसों पर ले सकते हैं। उन्होंने बताया कि संस्था में फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी और मैथ्स विषयों के उच्च योग्यता प्राप्त अध्यापक हैं, जिनके द्वारा तैयार किया गया स्टडी मटीरियल भी छात्रों को दिया जाता है और छात्रों के रेगुलर टेस्ट व मॉक टेस्ट भी लिए जाते हैं। यह संस्था के छात्रों की सफलता का राज है। उन्होंने यह भी बताया कि सीटें सीमित होने के कारण दाखिला पहले आओ और पहले पाओ की नीति पर किया जाएगा। इसके अतिरिक्त संस्था में हाल ही में शुरू किए गए टेट के बैचों में भी छात्रों का बारी झुकाव देखने को मिल रहा है।

Posted By: Jagran

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 17, 2018
6-1024_111718090308.jpg

1min90

आपको बता दें, बिहार बोर्ड परीक्षा में टॉपर घोटाले को लेकर बात सामने आती है.  इसलिए 10वीं और 12वीं की परीक्षा के पैटर्न में बदला किए गए हैं. बिहार बोर्ड के 10वी परीक्षा में 50% प्रश्न ऑब्जेक्टिव होंगे. प्रत्येक ऑब्जेक्टिव प्रश्न 1-1 अंक का होगा, यानी कि 50 सवाल 50 अंक. अगले साल होने वाली 10वीं-12वीं की परीक्षा में बैठने वाले छात्र इस नए बदलाव से वाकिफ हो जाए इसको लेकर भी बिहार बोर्ड ने तैयारी शुरू कर दी है.

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
jobs-front_111618023646.jpg

1min140

रिसर्च के मुताबिक, कई उद्योगों के लिए इस डिजिटल बदलाव के युग में कौशल बहुत जरूरी तय कर दिया गया है, इसके साथ ही यह, लोग कैसे और कहां कार्य कर रहे हैं उसमें भी बदलाव हो रहा है.’

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 15, 2018
unicef-initiative_1542284106.jpeg

2min90

अमर उजाला ब्यूरो
Updated Thu, 15 Nov 2018 05:45 PM IST

राकेश मिश्रा
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

राकेश मिश्रा किसान हैं और चार बेटियों व दो बेटों के पिता हैं। उनकी उपलब्धि यह है कि उन्होंने बेटियों को बेटों से बराबर तालीम दी है। वह कहते हैँ कि खुद उनकी शादी छोटी उम्र में हुई थी। वह गलती अब उनके बच्चे नहीं दोहराएंगे। 

बलरामपुर के ग्राम मचड़ी के निवासी राकेश मिश्रा बताते हैं कि उनके दोनों बेटे घर से दूर  हैं। एक कंपनी सेक्रेटरी की पोस्ट पर है। दूसरा बलरामपुर में बीएससी कर रहा है। एक बेटी कानपुर में रहकर नेट की तैयारी कर रही है और दूसरी एक एनजीओ में काम करती है। दोनों छोटी बहनें भी स्कूल में पढ़ रही हैं। 

राकेश का जीवन सूत्र बड़ा सादा है। बेटों की शादी इक्कीस बरस से पहले नहीं और बेटियों की अठारह से पहले नहीं। यही संकल्प उन्होंने बरसों पहले लिया था। उस पर उनका अमल जारी है। राकेश खुद बारहवीं कक्षा से आगे नहीं पढ़ पाए लेकिन बच्चों को वह उच्च शिक्षा दिलाएंगे, इसमें किसी को शक नहीं है।  

 स्मार्ट बेटियां अभियान से जुड़ी इंटरनेट साथी प्रियंका मिश्रा ने यह वीडियो कथा बनाकर अमर उजाला को भेजी है।

अमर उजाला फाउंडेशन, यूनिसेफ, फ्रेंड, फिया फाउंडेशन और जे.एम.सी. के साझा  अभियान स्मार्ट बेटियां के तहत श्रावस्ती और बलरामपुर जिले में एक अभियान चला रहा है। इसके तहत 150 किशोरियों-लड़कियों को अपने मोबाइल फोन से बाल विवाह के खिलाफ काम करने वालों की ऐसी ही सच्ची कहानियां बनाने का संक्षिप्त प्रशिक्षण दिया गया है। इन स्मार्ट बेटियों की भेजी कहानियों को ही हम यहां आपके सामने पेश कर रहे हैं।
 


Source link


SunnyNovember 14, 2018
plant.jpg

3min130

पौधगिरी अभियान के तहत पौधे लगाकर उनकी देखभाल करने वाले छात्रों को शिक्षा निदेशालय प्रोत्साहन राशि देगा। पौधरोपण संबंधित जानकारी प्रत्येक जिले के वन विभाग को भी उपलब्ध कराई गई थी

नवभारत टाइम्स | Updated:

गुड़गांव

पौधगिरी अभियान के तहत पौधे लगाकर उनकी देखभाल करने वाले छात्रों को शिक्षा निदेशालय प्रोत्साहन राशि देगा। पौधरोपण संबंधित जानकारी प्रत्येक जिले के वन विभाग को भी उपलब्ध कराई गई थी, जिसकी अब छात्रों के माध्यम से जियो-टैगिंग कराई जाएगी। पौधों की देखभाल करने वाले छात्रों को प्रति पौधा 50 रुपये की राशि दी जाएगी।

शिक्षा निदेशालय ने प्रदेश के सभी जिला शिक्षा अधिकारियों व जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों व स्कूल मुखियाओं को पत्र भेजकर छात्रों द्वारा जियो-टैगिंग कराने का निर्देश दिया है। वन विभाग के www.greenharyana.org.in नामक पोर्टल पर प्रत्येक छात्र द्वारा किए गए पौधरोपण की जियो-टैगिंग होगी। इसके आधार पर छात्रों को प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। दरअसल, पौधगिरी के तहत एक जुलाई से 31 अगस्त तक प्रदेश के विभिन्न स्कूलों में अभियान चलाया गया था। इसके अंतर्गत स्कूलों में पौधे लगाए गए थे। अब इन पौधों को संरक्षित करने के लिए अभियान से छात्रों को जोड़ा जा रहा है।


ऐसे की जाएगी जियो-टैगिंग


पौधरोपण की जियो-टैगिंग के लिए छात्रों को उपरोक्त पोर्टल खोलकर प्लांट एंट्री पर अपना अकाउंट बनाना होगा। इसमें छात्र की जानकारी (नाम, पिता का नाम, कक्षा), स्कूल का नाम, स्कूल की ईमेल आईडी, पौधे लगाने की डिटेल, पौधा की लोकेशन भी अपडेट करनी होगी। इसके बाद लगाए गए पौधे की फोटो क्लिक करके पोर्टल में सेव करनी होगी और पौधे की फोटो के साथ गूगल मैप के माध्यम से लोकेशन भी पोर्टल पर अपलोड करनी होगी।

 

पाइए पंजाब-हरियाणा समाचार(punjab and haryana News in Hindi)सबसे पहले नवभारत टाइम्स पर। नवभारत टाइम्स से हिंदी समाचार (Hindi News) अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App और रहें हर खबर से अपडेट।

punjab and haryana
News
 से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए NBT के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
Web Title directorate of education to give incentives to student for participating in save plant initiative

(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)


Source link


SunnyNovember 14, 2018
National-educationday.jpg

6min120

National Education Day is celebrated on 11 th November every year in memory of Shri Maulana Abul Kalam Azad, the first Union Minister of Education in Independent India. He is instrumental in laying the foundation of education system in Independent India. He is known for establishing UGC, IITs, IISc, ICCR, Sangeet Natak Akademy, Lalit Kala Akademy, Sahitya Akademy. On this occasion IGNOU Nagpur Regional Centre has organized a panel discussion
on “Inclusive Education – Needs and Measures with reference to Slum Dwellers, Commercial Sex Workers, Minorities and SC/ST Communities”.

Experts working for these under privilege groups for last several years are invited to share their ideas. Dr. P. Sivaswaroop, Regional Director IGNOU welcomed the Guests. He said that on this day, all people who are involved in the field of education should come together and discuss ways and means to provide education to all sections of the society. In light of this he explained the objectives of the panel discussion.

Dr. R. P. Singh, Secretary, Indian Red Cross Society, Nagpur Chapter who is involved in Commercial Sex Workers (CSWs) health and education issues, spoke about the educational aspects of Commercial Sex Workers. He said that the CSW’s have various reasons to study further. One lady CSW said that she want to answer her Childs questions, so, she joined IGNOU course. He thanked IGNOU for providing educational opportunity to CSWs and assured continuous cooperation in this
endeavor.

Shri. Rajeev Thorat of India Social Service Unit of education spoke on the educational needs and measures with reference to deprived sections, especially SC/ST community. He said that due to financial problems villagers were studying in the village school and after completing it they used to dropout. Those who could afford went to town
and cities schools and became educated. Those who were with less education have become labourer and their children needed special support. The govt. through various schemes like reservations, mid day meal and 25% seats in CBSE schools under Right to Education (RTE) etc. introduced. Through IGNOU many people are benefited irrespective of their financial and geographical conditions.

Shri. Jamshed Singh Kapoor, who is incharge for Langar Seva Sanstha explained the pathetic conditions of slum dwellers. He said that they face difficulty in every moment and so motivating them towards education is a herculean task. He tells them that education opens your mind and improves the quality of your work. So everyone be educated. A Tea vendor can also improve with education and do his business in a better way. At the bottom of these activity, everyone should have a inner desire to improve themselves. He said that IGNOU education is of very good quality and gives flexibility in study which is more useful for such people for whom daily working is essential for their
sustenance.

Shri. Tanveer Mirza, working in rural areas said that education is very essential for every member of the society. He emphasized education with character and also education with skills are very important. Otherwise we are having lakhs of applications for a class four post. The education system should change from “copy-paste” method to wisdom
development pattern. He said that we have crores of educated people but all our commodities, starting from tooth brush to crackers to mobile phones all are imported. He said that IGNOU’s education is very suitable to working muslims and muslim women as it has a inherent flexibility in studies.

At the end it is said that by educating all sections (especially weaker sections) of the society we are strengthening the Nation. The event was attended by invitees like Dr. P. T. Shukla, Dr. Gajghate, Shri. Satish Tata, Regional Centre Staff. Dr. Rishi Agrawal, Coordinator of IGNOU Study Centre, Hislop College conducted the
program.


Source link


SunnyNovember 14, 2018
14_11_2018-14grp9-c-1_18635342_17828.jpg

1min100

Publish Date:Wed, 14 Nov 2018 05:04 PM (IST)

संवाद सहयोगी, गुरदासपुर : कॉलेज रोड पर स्थित एजुकेशन व‌र्ल्ड में महाराजा रणजीत ¨सह एकेडमी के बैच 15 नवंबर से शुरू किए जा रहे हैं। एजुकेशन व‌र्ल्ड के मैने¨जग पार्टनर अनुज महाजन ने बताया कि संस्था में मैथ्स, रिजनिंग और इंग्लिश के विषय के माहिर अध्यापक हैं। उनके द्वारा तैयार किया गया स्टडी मैटीरियल भी विद्यार्थियों को दिया जाता है। इसके अतिरिक्त विद्यार्थियों के रेगुलर टेस्ट और मॉक टेस्ट भी लिए जाते हैं, जोकि संस्था के विद्यार्थियों की सफलता का राज है।

उन्होंने बताया कि संस्था के महाराजा रणजीत ¨सह एकैडमी पंजाब सरकार द्वारा चलाई जा रही है। इसमें नाममात्र फीसों पर एनडीए की तैयारी करवाई जाती है, जिसमें दसवीं कक्षा में पढ़ रहे छात्र भाग ले सकते हैं। गौरतलब है कि संस्था का गत नतीजा भी शानदार रहा है। संस्था में शुरू किए गए टेट के बैचों में भी विद्यार्थियों का भारी झुकाव देखने को मिल रहा है, जिसमें सीटें सीमित होने के कारण दाखिला पहले आओ और पहले पाओ की नीति पर आधारित होगा। इसके अतिरिक्त संस्था में नीट और जेईई के क्रैश कोर्स, बैं¨कग, एसएससी बैचों में भी दाखिला जारी है।

Posted By: Jagran

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 14, 2018
10_111418010914.jpg

1min90

बंटवारे की शिकार महिला: बंटवारे की तकलीफ सबसे ज्यादा महिलाओं को ही उठानी
पड़ी. हिंदू, मुसलमान, सिख महिलाओं का अपहरण कर बलात्कार के अनगिनत मामले
सामने आए. बाद में सरकार की कोशिशों से जब यह महिलाएं वापस घर लौटने की
स्थिति में आईं तो बहुत सारी महिलाएं या तो घर जाना ही नहीं चाहती थी या
महिलाओं के परिवारों ने ‘अपवित्र’ कह उनका परित्याग कर दिया था. आजादी के
बाद दिल्ली, मुंबई के वेश्यालयों में महिलाओं की संख्या काफी बढ़ गई थी.
नेहरू ने एक रेडियो कार्यक्रम के जरिए इन महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा,
‘बंटवारे के दौरान जिन महिलाओं को तमाम तरह की तकलीफों का सामना करना
पड़ा, उन्हें ये नहीं सोचना चाहिए कि हमें उनके चरित्र के बारे में कोई
संदेह है. हम उन्हें प्यार से वापस लाना चाहते हैं क्योंकि इसमें उनकी कोई
गलती नहीं है. हम उन्हें बहुत प्यार से अपने घरों में रखना चाहते हैं. ऐसी
महिलाओं की हर संभव मदद की जाएगी.’

Let’s block ads! (Why?)


Source link



Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories