Sunny, Author at earn money online hindi news: Sunnywebmoney.com - Page 2 of 80

SunnyNovember 16, 2018
casual-dining-restaurant_large.jpg

8min70

Pete: 

You need to reveal a hidden expense that can easily be stopped. That expense is eating out. All over America, at every income level, people who shouldn’t eat out are. Cooking at home every day, three times per day, is a lost art. Bring bagged lunches to work and school. No more swinging by restaurants to pick up carry-out on the way home.

Dan, Florida

I passed my driver’s test in December of 1993. Sixteen, excited, and ready for the freedom that came with a little piece of plastic adorned with a grainy photo of a freckled face, I drove to my best friend’s house, picked him up, and we went to our favorite fast-food restaurant. We had food at home, we had time. But when moved by the spirit of freedom and choice, we chose to commemorate a monumental moment by spending $18 on double-bacon cheeseburgers, cheese fries and chocolate shakes.

This is the complexity of choosing to dine out over cooking at home. 

Don’t get me wrong, I agree with you, Dan. Choosing to spend money on something you don’t need is fundamentally a poor decision. But for better or worse, the fast-paced nature of life today makes home-prepped meals more unrealistic than you’d like. And for some, dining behavior can be influenced by the availability of fresh food in the area in which they live.

People dine out for several reasons, but I find all of them fall into two main categories: entertainment and convenience. 

More Money: Midsize truck war? Toyota Tacoma leads, but new Ford Ranger, Jeep Scrambler pose threat

More Money: 401(k) millionaires at Fidelity jump 41 percent in third quarter to record 187,400

More Money: Saddled with huge student loan debt, homebuyers sacrifice more to purchase a house

I am tickled when a chef can make simple ingredients taste like magic. How can a piece of fish taste fine when I make it, but transform into an ethereal experience when prepared by a master? Whatever the answer, I’m willing to pay for that moment. I’m also willing to pay to watch a group of relative strangers place a sombrero on my kid’s head, and sing Feliz Cumpleaños off key. In fact, I place moments like these in my entertainment budget, and you should too.

But convenience is an entirely different story, one that tempts us all with the slipperiest of slopes. 

Convenience is when a person chooses to exchange money for time. On the way home from your kid’s soccer, gymnastics or falconry lessons, you decided you weren’t willing to spend time preparing a meal when you got home. And you certainly didn’t spend time preparing one before you left. Instead, you paid money to save time.

But food convenience has gone too far. From purchasing pre-made peanut butter and jelly sandwiches with the crust cut off to pre-peeled garlic, you have to wonder how much time we’re really saving. I mean, spend 90 seconds peeling the stinking garlic yourself, and save yourself a couple of bucks.

I chose to answer this particular question this week as a catharsis. I fancy myself a learned financial mind. So why do I consistently have food delivered to my house, at a fee, when I could drive the two miles and five minutes to secure it myself? In this area of my life, I’m lazy. I’m not proud of it, but I’m willing to admit to it.

If, upon inspection, a person feels as though they’re not accomplishing their financial goals because of the amount of money they spend on food, then obviously further scrutiny is needed. However, it’s been my experience that most folks simply don’t have hard and fast financial goals, therefore overspending on food can’t be blamed for a lack of success, because success is undefined. If I were to tie my desire to keep my kids from having student loans to the pizza I pick up on the way home from soccer, we’d likely just have a can of soup when we got home. 

But I … I just can’t. Does that make me a hypocrite? I don’t know. Although I can say with certainty that my well-established financial goals aren’t impacted by my dining habits, that doesn’t mean I should feel justified in objectively lazy acts. 

My assertion is most people who spend too much on dining out do so because of their relationship with convenience. Spending money to save time, isn’t always a good idea. I’m personally reflecting on this idea as I write it. Thousands of articles have been written about meal prep, meal planning and cheap eating. And it would behoove Americans to adopt healthier practices in these areas. But none of it matters if definitive financial goals aren’t in place to counterbalance our urge to live a convenient life. 

Dan, your suggestion is correct, to the point and indisputable. But when you wrote “easily … stopped”, well, easy is in the eye of the beholder. That’s the frustrating part about human behavior: We often act in ways that don’t make a lot of sense. 

Peter Dunn is an author, speaker and radio host, and he has a free podcast: Million Dollar Plan. Have a question about money for Pete the Planner? Email him at AskPete@petetheplanner.com

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
cryptocurrency-wallet-wallets-regulation-fsa-japan-bitcoin-blockchain-custodial.jpg&signature=52c060545158ab6ad1ed2330cee03dea-1280x640.jpg&signature=52c060545158ab6ad1ed2330cee03dea

4min70

Despite granting the industry self-regulatory status, it seems Japanese regulators are still keen to keep an eye on things.

The Japanese Financial Services Agency (FSA) recently announced that it is devising a regulatory framework for cryptocurrency wallet services, Bitcoin News reports.

While the industry may now be left to police and regulate itself, cryptocurrency exchange businesses must still be registered with the country’s FSA as they buy and sell virtual currencies. However, as cryptocurrency wallets don’t technically provide a trading service to customers they are currently in a regulatory gray-area.

As  wallets are required to trade cryptocurrency, FSA lawmakers believe they should be appropriately regulated.

It should be noted that not all wallets will be affected by this proposal, rather the regulations are designed to apply only to custodial wallets – wallets that are maintained and controlled by a third-party. Software and hardware wallets will not fall under this regulatory framework.

The regulations will be designed to satisfy international standards for anti-money laundering and anti-terrorism financing, and police some of the risks associated with wallet services, like hacks, theft, and failures. The regulations will then most likely require wallet providers to have know-your-customer (KYC) policies in place.

When these regulations will be implemented and enforced has not been disclosed. But it has has been made clear than any cryptocurrency wallet service provider that does not adhere to the rules will be forced to shut-up shop, or will be operating illegally.

Sadly, there will always be those that do operate outside of the law, and Japan is no stranger to dealing with its own fair share of cryptocurrency hacks and scams.

Earlier this week Tokyo police arrested a group of eight in connection with a $68 million Ponzi scheme. In September it was revealed that Japan lost over $540 million to cryptocurrency hacks in the first half of this year.

Published November 16, 2018 — 09:50 UTC

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
jobs-front_111618023646.jpg

1min80

रिसर्च के मुताबिक, कई उद्योगों के लिए इस डिजिटल बदलाव के युग में कौशल बहुत जरूरी तय कर दिया गया है, इसके साथ ही यह, लोग कैसे और कहां कार्य कर रहे हैं उसमें भी बदलाव हो रहा है.’

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
Rajasthan-Tourism-App-Download.png

1min60


Rajasthan Tourism App – Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

रायपुर। पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली ने यूपीए सरकार के दौरान 35 हजार करोड़ रूपए काला धन विदेशों से वापस लाने का दावा करते हुए आरोप लगाया कि मोदी के साढ़े चार वर्षों में 62 हजार करोड रूपए नीरव मोदी,मेहुल चौकसी एवं माल्या जैसे लोग लेकर विदेशों में भाग गए।

छत्तीसगढ़ के चुनावी दौरे पर आए श्री मोइली ने आज यहां प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि यूपीए सरकार के समय काला धन पर एसआईटी गठित हुई,तीन रिपोर्ट आई लेकिन मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से इस दिशा में कुछ नही हुआ।इसके उलट नीरव मोदी,मेहुल चौकसी एवं विजय माल्या,ललित मोदी जैसे लोग 62 हजार करोड देश की बैकों का पैसा लेकर विदेशों में भाग गए। 

उन्होने कहा कि मोदी देश के मैनेजमेंट को संभालने की बजाय केवल हेडलाईन मैनेजमेंट में जुटे है।उन्होने आरोप लगाया कि मोदी सरकार की नीतियां एवं योजनाएं लकवा ग्रस्त है।इस सरकार की विफल नीतियों एवं गलत निर्णयों से उनकी समस्त योजनाएं गलत दिशा की ओर जा रही हैं एवं इसका जनता का कोई लाभ नहीं मिल रहा है। नोटबदी से हजारों बेरोजगार हुए छोटे व्यापार पूर्ण रूप से बंद हो गए।गरीबों को सिर्फ और सिर्फ परेशान किया गया।
एजेंसी

Rajasthan Tourism App – Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
1542362042_Master.jpg

3min130

राजस्थान विधानसभा चुनाव में इस बार झुंझुनू जिले की काफी चर्चा हो रही है। दरअसल, यहां कुछ महीने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लोगों ने रैली में काले झंडे दिखाए थे। बताया गया कि ये संविदा कर्मचारी थे जो रेग्युलर करने की मांग कर रहे थे। इस घटना से वसुंधरा राजे सरकार को बड़ी शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी। ऐसे में लोगों की दिलचस्पी इस बात को लेकर है कि जिले में वोटों का गणित क्या है और किन उम्मीदवारों में सीधी टक्कर है? आइए विस्तार से समझते हैं।

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

राजस्थान विधानसभा चुनाव में इस बार झुंझुनू जिले की काफी चर्चा हो रही है। दरअसल, यहां कुछ महीने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लोगों ने रैली में काले झंडे दिखाए थे। बताया गया कि ये संविदा कर्मचारी थे जो रेग्युलर करने की मांग कर रहे थे। इस घटना से वसुंधरा राजे सरकार को बड़ी शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी। ऐसे में लोगों की दिलचस्पी इस बात को लेकर है कि जिले में वोटों का गणित क्या है और किन उम्मीदवारों में सीधी टक्कर है? आइए विस्तार से समझते हैं।


 

पाइए इन्फोग्राफिक्स समाचार(Infographics News in Hindi)सबसे पहले नवभारत टाइम्स पर। नवभारत टाइम्स से हिंदी समाचार (Hindi News) अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App और रहें हर खबर से अपडेट।

Infographics
News
 से जुड़े हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए NBT के फ़ेसबुक पेज को लाइक करें
Web Title jhunjhunu lack of jobs in shekhawati

(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
Asia-Crypto-Stocks-Slip-640x360.png

4min110

Shares of several cryptocurrency-related companies in Asian markets fell Thursday, following earlier losses among U.S. names after Bitcoin led a sell-off in digital currencies.

Monex Group Inc., which owns the Japanese exchange Coincheck, and SBI Holdings Inc. each fell more than 2 percent to close at two-week lows in Tokyo, while Vidente Co. and Omnitel Inc. ended the day down at least 7 percent in Seoul to lead declines among crypto-linked stocks.

Blockchain-related stocks in the U.S. earlier fell in Wednesday trading. Ideanomics Inc. plunged 49 percent, the fintech firm’s biggest one-day loss since 2010, after reporting worse third-quarter results compared with a year ago due to infrastructure costs and new executive team hires. Xunlei Ltd. depositary receipts tumbled 13 percent.

Bitcoin, the largest cryptocurrency, plunged as much as 15 percent during U.S. trading hours, and was steady at $5,571.18 as of 8:27 a.m. in London, according to consolidated pricing data compiled by Bloomberg. Rival coins mostly steadied after a retreat overnight, as the industry braces for a contentious split in Bitcoin offshoot Bitcoin Cash. After diving 17 percent yesterday, Bitcoin Cash gained 3.1 percent on Thursday.

“The $6,000 mark, which had been serving as a floor for a long time, gave way — this feels like a bit of a dangerous sign,” said Soichiro Tsutsumi, a trader with eWarrant Japan Securities K.K. in Tokyo. “Companies most impacted by the price move would be the ones with business models reliant on a client pool, on concern that the number of client accounts won’t expand.”

Bitcoin’s slump pushes prices into “deeply oversold” territory and suggests it may be due for a short-term rally, however longer-term technical indicators aren’t so favorable, according to Rob Sluymer with Fundstrat Global Advisors.

“This week’s breakdown produced significant technical damage,” Sluymer wrote in a note Wednesday. “That will likely take weeks, if not months, to repair to create a durable enough price ‘structure’ to support a multi-month rally.”

One stock bucking the trend was Ceres Inc., which rose 8.2 percent after reporting nine-month earnings.

Two versions of Bitcoin Cash software will be competing to become the dominant chain on Thursday, and some miners could be switching from mining Bitcoin to mining Bitcoin Cash to lend one or the other version support.

Now read: Bitcoin plummets below $6,000 to lowest level in over a year

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
1542352785_up-stock-marketty.jpg

2min130

नई दिल्ली

चालू सप्ताह के आखिरी सत्र में शेयर बाजार में कारोबार की शुरुआत तेजी के साथ हुई। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 31 शेयरों का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 138.16 अंक यानी 0.39% चढ़कर 35,398.70 पर खुला। वहीं, नैशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों का संवेदी सूचकांक निफ्टी 27.30 अंक यानी 0.26% उछलकर 10,644 पर खुला। 9:22 बजे सेंसेक्स के 20 शेयरों में लिवाली जबकि शेष 11 शेयरों में बिकवाली का माहौल था। वहीं, निफ्टी के 32 शेयरों के भाव चढ़ चुके थे जबकि 18 शेयर लाल निशान में देखे गए।

इस दौरान सेंसेक्स पर जिन शेयरों में सबसे ज्यादा मजबूती आई, उनमें सन फार्मा 1.55%, टीसीएस 1.40%, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा 1.18%, ऐक्सिस बैंक 1.17%, एशियन पेंट्स 0.97%, एचडीएफसी 0.93%, टाटा मोटर्स डीवीआर 0.81%, लार्सन ऐंड टुब्रो 0.69%, रिलायंस 0.60%, आईटीसी 0.60% और आईसीआईसीआई बैंक 0.58% तक चढ़ चुके थे। वहीं, निफ्टी पर मजबूत होने वाले टॉप 10 शेयरों में इन्फ्राटेल (1.80%), एचसीएल टेक (1.76%), सिप्ला (1.47%), ग्रासिम (1.40%), सन फार्मा (1.27%), टीसीएस (1.14%), ऐक्सिस बैंक (1.09%), महिंद्रा ऐंड महिंद्रा (0.94%), गेल (0.92%) और एचडीएफसी बैंक (0.80%) शामिल रहे।

9:27 बजे सेंसेक्स पर यस बैंक के शेयर 4.85%, ओएनजीसी 3.02%, इन्फोसिस 1.13%, अडानी पोर्ट्स 0.80%, टाटा स्टील 0.60%, इंडसइंड बैंक 0.32%, वेदांता 0.26%, हिंदुस्तान लीवर 0.18% और कोल इंडिया 0.10% तक कमजोर हो गए थे। उधर, निफ्टी पर यस बैंक के शेयर 4.37%, ओएनजीसी के 3.12%, इंडियन ऑइल के 2.80%, इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनैंस के 2.63%, जेएसडब्ल्यू स्टील के 1.29%, हिंदुस्तान पेट्रोलियम के 1.20%, अडानी पोर्ट्स के 0.87%, इन्फोसिस के 0.82%, टाटा स्टील के 0.77% और बीपीसीएल के शेयर 0.57% तक लुढ़क गए।

9:30 बजे निफ्टी मीडिया, निफ्टी मेटल, निफ्टी पीएसयू बैंक और निफ्टी रीयल्टी को छोड़कर सारे सेक्टोरल इंडिसेज हरे निशान में थे। इस दौरान सेंसेक्स 115.01 अंक(0.33%) की तेजी के साथ 35,375.55 पर जबकि निफ्टी में 28.50 अंकों (0.27%) की मजबूती के साथ 10,645.20 पर ट्रेडिंग हो रही थी।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
ka.jpg

2min90

फॉरेन एक्सचेंज मार्केट‘ या फॉरेक्स दरअसल और कुछ नहीं बल्कि करंसी ट्रेडिंग के ग्लोबल मार्केट के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला टर्म है। तकरीबन 5.3 ट्रिलियन डॉलर के दैनिक लेनदेन के साथ यह दुनिया का सबसे बड़ा फाइनैंशल मार्केट है। आप चाहे 100 यूरो को यूएस डॉलर से किसी एयरपोर्ट पर एक्सचेंज करें या 1 करोड़ डॉलर्स को रुपये से किसी बैंक के जरिए एक्सचेंज कराएं, यह सब फॉरेक्स का ही हिस्सा है।

फॉरेक्स लेनदेन को मैनेज करने वाले और कस्टमर्स को सुविधा मुहैया कराने वाली एजेंसियां बड़ी-बड़ी कंपनियों से लेकर छोटे-मोटे एजेंट तक हो सकते हैं।

आप भी कर सकते हैं फॉरेक्स ट्रेडिंग

फॉरेक्स ट्रेडिंग कोई रॉकेट साइंस नहीं है और आज इंटरनेट की मदद से आप भी इसे घर बैठे कर सकते हैं। बिल्कुल बड़े-बड़े बैंक और फाइनैंशल ऑर्गनाइजेशन्स की तरह। बस आपको इंटरनेट कनेक्शन के साथ एक कंप्यूटर चाहिए और एक फॉरेक्स ब्रोकर के साथ ट्रेडिंग अकाउंट।

फॉरेक्स ट्रेडिंग ऐसे करती है काम

फॉरेक्स मार्केट में एक करंसी को दूसरी करंसी से बदला जाता है। ट्रेडिंग में सबसे ज्यादा जरूरी बात होती है एक्सचेंज रेट। मतलब एक करंसी को दूसरी करंसी से एक्सचेंज करने की दर क्या होगी। आपने आमतौर पर देखा होगा कि रुपये की कीमत डॉलर की अपेक्षा इतनी है या डॉलर की कीमत यूरो की अपेक्षा इतनी है। आसान भाषा में कहें तो इस वक्त 16 नवंबर को रुपये की दर डॉलर की अपेक्षा 71.84 है यानी एक डॉलर खरीदने के लिए आपको 71.84 रुपये चुकाने होंगे।

फॉरेक्स मार्केट से कैसे कमा सकते हैं पैसे

यहां आपको उदाहरण देते हैं जिसके जरिए आप फॉरेक्स मार्केट से पैसे कमा सकते हैं या ट्रेडिंग कर सकते हैं। आप डॉलर (USD) के बदले 1,000 यूरोज़ (EUR) लेने का मन बनाते हैं। मान लीजिए कि जिस वक्त आपने यूरो खरीदे उस वक्त डॉलर/यूरो का एक्सचेंज रेट 1.45 था यानी आपको 1,000 यूरो खरीदने के लिए 1,450 डॉलर देने पड़े। कुछ समय बाद एक्सचेंज रेट में थोड़ा परिवर्तन हुआ और यह बढ़कर 1.55 हो गया। अब जब आप 1,000 यूरो बेचेंगे तो आपको 1,550 डॉलर मिलेंगे। इस तरह आपको कुल 100 डॉलर का फायदा हुआ। इसी तरह अगर यूरो बेचने के वक्त एक्सचेंज रेट 1.35 रहा, तो आपको उन्हीं 1000 यूरो के बदले 1,350 डॉलर मिलेंगे यानी आपको 100 डॉलर का नुकसान हुआ।

फॉरेक्स मार्केट में बड़े-बड़े प्लेयर्स, एजेंट्स, फाइनैंशल कंपनियां इसी तरह पैसे बनाती हैं।

Let’s block ads! (Why?)


Source link


SunnyNovember 16, 2018
NBT.jpg

1min70

मुंबई, 16 नवंबर (भाषा) शुरुआती कारोबार में शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 10 पैसे की मजबूती के साथ 71.87 पर खुला। मुद्रा कारोबारियों के अनुसार निर्यातकों और बैंकों के डॉलर की बिकवाली से रुपया को समर्थन मिला है। इसके अलावा अन्य विदेशी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर के कमजोर होने से भी रुपया मजबूत हुआ है। विदेशी निवेश बढ़ने और घरेलू शेयर बाजारों के उच्च स्तर पर खुलने का असर भी रुपया पर पड़ा है। आरंभिक आंकड़ों के अनुसार बृहस्पतिवार को विदेशी निवेशकों ने 2,043.06 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। बृहस्पतिवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 34 पैसे की मजबूती के साथ 71.97 पर बंद हुआ था जो दो महीने का उच्च स्तर था।

Let’s block ads! (Why?)


Source link



Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories