खरीदने के बजाए रेंट और शेयरिंग पर लें सामान, ऐसे बचा सकते हैं खूब सारा पैसा – दैनिक जागरण

Publish Date:Sun, 23 Dec 2018 06:38 PM (IST)

नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। अगर हम नई चीजें खरीदने के बजाए उसे किराए पर लें तो इसमें हमारा अच्छा खासा पैसा बच जाएगा। चाहे वो कपड़े हो, वाहन हो, घर हो या कोई अन्‍य चीज। आजकल किराए पर लगभग सब कुछ मिल रहा है। हालांकि आपको किराए पर मिलने वाली चीजों के बारे में पता होना चाहिए ताकि आपको यह पता लग सके कि आपको पैसा कैसे बचाना है। 

ऑफिस आने-जाने के लिए करें ये काम: अगर आप ऑफिस जाने के लिए खुद की गाड़ी का इस्तेमाल करते हैं तो इसमें आपको ज्यादा खर्च आएगा। अगर आप बड़े शहरों में रहते हैं तो आपको पब्लिक ट्रांसपोर्ट की कई सारी सुविधाएं मिलेंगी। इसके लिए आप प्राइवेट कैब या टैक्‍सी की जगह ओला और उबर में राइड शेयर सर्विस का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। अगर आप अकेले यात्रा करेंगे तो आपको ज्यादा पैसा चुकाना होगा लेकिन शेयरिंग में आपको कम खर्च करना होगा। आजकल ओला उबर जैसे कई कैब इसकी सुविधा देते हैं।

कपड़ों पर न करें पैसे बर्बाद:  अगर आप महंगे और ब्रैंडेड कपड़े पहने का शौक रखते हैं तो यह तरकीब आपके काम आएगी। अगर आप किसी शादी में शामिल होने जा रहे हैं और आप इसके लिए कोई नया ब्रैंडेड कपड़ा खरीदेंगे तो आपको यह काफी महंगा पड़ेगा। आपको जानकर हैरानी होगी कि आजकल ब्रैंडेड कपड़े भी किराए पर मिलते हैं और इससे आप काफी सारा पैसा भी बचा सकते हैं। इसके लिए कई ऑनलाइन वेबसाइट भी हैं जैसे Flyrobe, Rent IT Bae, Liberent आदि। आप इन वेबसाइट से कपड़े किराए पर घर मंगा सकते हैं और फिर डिलीवरी बॉय उसे वापस लेने भी आ जाएगा।

घर के बाहर यात्रा: अगर आप कहीं घूमने जा रहे हैं तो किसी बड़े होटल में डायरेक्‍ट रुम बुक करने के बजाए ओयो या ट्रिप एडवाइजर, होम स्‍टे डॉट कॉम के जरिए रूम बुक करें। इससे आप अच्छा खासा पैसे बचा सकते हैं।

काम की जगह: यदि आपके पास कोई छोटा बिजनेस या स्टार्ट अप है तो उसके लिए आप चाहें तो वर्किंग स्‍पेस भी शेयर कर सकते हैं। आपको Awfis, Innov8 Wework जैसी कई साइटों पर को-वर्किंग स्‍पेस मिल जाएंगे।

घरेलू फर्नीचर: यदि आपको जॉब किसी एक शहर के बजाए कई शहरों में करनी पड़ रही है तो इसके लिए आपको बार-बार फर्नीचर खरदीने की जरूरत नहीं है। ऐसे में आप किराए पर फर्नीचर लें और उसका इस्तेमाल करें। कई वेबसाइट ऑनलाइन रेंट पर फर्नीचर देती हैं। 

Posted By: Nitesh

Let’s block ads! (Why?)


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *