तालाब खुदवाने वाले किसान कर सकेंगे बौछारी सिंचाई- Amarujala – अमर उजाला

ख़बर सुनें

हमीरपुर। गिरते भूगर्भ जलस्तर को देखते खेत तालाब योजना किसानों को काफी रास आने लगी है। जिले में खुद चुके 500 खेत तालाब वाले किसानों के लिए आई नई स्कीम के तहत 90 फीसदी अनुदान पर बौछारी सिंचाई के लिए एक पंपसेट के साथ स्प्रिंकलर पाइप भूमि संरक्षण विभाग देगा।

विज्ञापन

जिले में करीब 27 हजार किसानों ने खेत तालाब योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन किया हैं। शासन ने योजना के तहत वित्तीय वर्ष में सिर्फ 500 तालाबों का लक्ष्य दिया है। लगातार कई वर्षों से सूखे के चलते जिले में किसान अब खेतीबाड़ी करने से पीछे हट रहे हैं।

वहीं भूगर्भ जलस्तर गिरने से निजी व सरकारी नलकूप भी जवाब दे रहे हैं। इसी को देखते हुए शासन स्तर से खेत तालाब योजना की शुरुआत हुई है। योजना की सफलता को देखते हुए एक हजार खेत तालाब और खोदे जाने का लक्ष्य शासन को भेजा गया है।

एक बीघे में तालाब खुदवाने वाला किसान ढाई हेक्टेयर खेत की एक बार सिंचाई कर सकेगा। साथ ही भूगर्भ जलस्तर भी ऊपर लाने में सहायक होंगे। इससे किसान सिंघाड़ा व मत्स्य पालन कर अतिरिक्त आमदनी का लाभ ले सकेंगे। वहीं 1.72 लाख फलदार पौधे लगाकर बागवानी का कार्य भी किया जा रहा है।

अनुदान पर मिलेंगे स्प्रिंकलर पंपसेट
तालाबों की खुदाई कराने वाले किसानों को सिंचाई के लिए 90 फीसदी अनुदान पर पंपसेट के साथ स्प्रिंकलर सेट के 16 पाइप उपलब्ध कराए जाएंगे। योजना से जुड़े सभी लाभार्थियों को स्प्रिंकलर पंपसेट दिए जाने की तैयारी भूमि संरक्षण विभाग कर रहा है। लघु सीमांत कृषक को 90 फीसदी व वृहद कृषक को 80 फीसदी अनुदान पर यह यंत्र दिए जाएंगे। जिससे किसान 96 मीटर क्षेत्रफल में बौछारी सिंचाई कर सकेंगे।

25 तालाबों में हुआ मछली पालन
योजना में मछली पालन के लिए 25 किसानों को प्रोत्साहित किया गया है। नदेहरा, सिसोलर, सिमनौड़ी व बेरी सहित अन्य गांवों के किसानों को मुफ्त में मत्स्य बीज दिलाकर तालाबों में डलवाया गया है। मछली पालन से किसानों को प्रतिवर्ष 75 से एक लाख रुपये तक की अतिरिक्त आमदनी हो सकेगी।

एक हजार हेक्टेयर में होगी अतिरिक्त सिंचाई
जिले में खोदे गए 500 तालाबों से करीब एक हजार हेक्टेयर में अतिरिक्त सिंचाई का लाभ किसानों को इस योजना से मिलेगा। छोटे तालाब में एक हजार घन मीटर पानी की क्षमता होती है, जिससे एक हेक्टेयर खेत की एक बार सिंचाई की जा सकती है। वहीं बड़े तालाब में 3100 घन मीटर पानी क्षमता से ढाई हेक्टेयर खेत की एक बार सिंचाई की जा सकेगी।

योजना में अभी तक 27 हजार किसानों ने ऑनलाइन आवेदन किया है। जिले को मिला 500 तालाबों का लक्ष्य विभाग की तीनों इकाइयों ने पूरा कर लिया है। सभी लाभार्थियों को स्प्रिंकलर व पंपसेट अनुदान पर दिए जाने की तैयारी हो रही है। इस वित्तीय वर्ष जनपद को एक हजार तालाबों का लक्ष्य मिलने की उम्मीद है। – भीमसेन, भूमि संरक्षण अधिकारी

विभाग किसानों को 90 फीसदी अनुदान पर देगा पंपसेट व स्प्रिंकलर पाइप
अमर उजाला ब्यूरो

Let’s block ads! (Why?)


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories