बैंकिंग सेक्टर में सुधार के संकेत, लंबी अवधि में 4 शेयर दे सकते हैं अच्छा रिटर्न

लंबे समय से एसेट क्वालिटी और कैपिटल की समस्या झेल रहे बैंकिंग सेक्टर की सेहत में सुधार के संकेत मिल रहे हैं. (PTI)

लंबे समय से एसेट क्वालिटी और कैपिटल की समस्या झेल रहे बैंकिंग सेक्टर की सेहत में सुधार के संकेत मिल रहे हैं. वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में लॉर्जकैप और मिडकैप सेग्मेंट से कुछ बैंकों ने न सिर्फ मुनाफा कमाया है, बल्कि एनपीए भी कम करने में सफल रहे हैं. हालांकि प्रोविजनिंग ज्यादा रहने से सेक्टर को लेकर अट्रैक्शन ज्यादा नहीं बढ़ा है. एक्सपर्ट का मानना है कि बैंकों ने अपनी स्ट्रैटेजी बदली है, वहीं सेक्टर को लेकर सरकार भी सतर्क है. तिमाही नतीजों से रिकवरी के संकेत दे रहे हैं. फिलहाल अभी कुछ महीने बैंकिंग सेक्टर से ज्यादा उम्मीद नहीं है, लेकिन लंबी अवधि के लिहाज से सरकारी और निजी क्षेत्र के सेलेक्टेड बैंकों में बेहतर रिटर्न मिल सकता है.

एसेट क्वालिटी में सुधार

फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि बैंकों के लिहाज से तिमाही नतीजे उम्मीद के हिसाब से रहे हैं. बैंकों की एसेट क्वालिटी में सुधार हुआ है. तिमाही आधार पर मुनाफा भी बेहतर रहा है. प्रॉम्प्ट करेक्टिव एक्शन (PAC) को लेकर सरकार और आरबीआई के बीच विवाद कम होता दिख रहा है. इससे PAC के तहत गए बैंकों को नए लोन देने की छूट मिलेगी. सरकार समय समय पर बैंकों में पैसा डालने की योजना पर काम कर रही है. बैंकों ने भी अपना फोकस बदला है. लोन रिकवरी पर लगातार काम हो रहा है. फिलहाल अभी कुछ महीने की बात करें तो सेक्टर से ज्यादा उम्मीद नहीं है. लेकिन लंबी अवधि में बैंकों का भविष्य बेहतर है. उन्होंने एसबीआई, कोटक महिंद्रा बैंक में 20 से 25 फीसदी ग्रोथ के टारगेट के साथ निवेश्श की सलाह दी है.

लोन रिकवरी पर फोकस

ट्रेड स्विफ्ट के रिसर्च हेड संदीप जैन का कहना है कि तिमाही नतीजों पर गौर करें तो एसबीआई तिमाही आधार पर घाटे से मुनाफे में आ गई है. एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक और बैंक आॅफ बड़ौदा समेत कई बैंकों का फंसा हुआ कर्ज कम हुआ है. बैंक कॉरपोरेट की जगह रिटेल लोन पर फोकस कर रहे हैं. लोन रिकवरी के लिए लगातार मैनजमेंट काम कर रहा है. जो कंपनियां बैंकों का पेमेंट नहीं कर पा रही हैं, उनका मामला एनसीएलटी भेजा जा रहा है, जहां से कर्ज के रिकवरी की उम्मीद बनी है. हालांकि प्रोविजनिंग एक समस्या है. उन्होंने लंबी अवधि के लिए बैंक आॅफ बड़ौदा में 150 रुपये और आईसीआईसीआई बैंक में 390 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश की सलाह दी है.

किन बातों का रखें ध्यान

एक्सपर्ट का मानना है कि बैंकिंग सेक्टर को लेकर सेंटीमेंट अभी कमजोर हैं. इस वजह से नए निवेयाक लंबी अवधि के लिए निवेश करें, वहीं जिनका निवेश पहले से है, उन्हें होल्ड करना चाहिए. एक्सपर्ट का मानना है कि बैंकों से जुड़ें कई निगेटिव फैक्टर अब डिस्काउंट हो रहे हें, ऐसे में गिरावट पर सस्ते हो चुके अच्छे शेयरों में निवेश करना चाहिए. उन बैंकों से दूर रहना चाहिए जो PCA के दायरे में हैं. निवेश के पहले बैलेंसशीट जरूर देखनी चाहिए. देखें की बैंक को मुनाफा आ रहा है या नहीं.

किन शेयरों में मिलेगा रिटर्न

SBI

SBI तिमाही आधार पर घाटे से मुनाफे में आ गया है. वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में बैंक को 944.9 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है, जबकि जून तिमाही में बैंक को 4875.85 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था. सालाना आधार पर बैंक का मुनाफा करीब 40 फीसदी घटा है. Q2 में SBI का नेट NPA 5.29 फीसदी से घटकर 4.84 फीसदी रह गया है. ग्रॉस NPA भी 10.69 फीसदी से घटकर 9.95% रह गया है. जगदीश ठक्कर और संदीप जैन ने बैंक में निवेश की सलाह दी है. ब्रोकरेज हाउस दोलत कैपिटल ने शेयर के लिए 330 रुपये का लक्ष्य रखा है. करंट प्राइस 276 रुपये के लिहाज से 20 फीसदी रिटर्न मिल सकता है.

ICICI बैंक

ICICI बैंक भी तिमाही आधार पर मुनाफे में आ गया है. वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में बैंक को 909 करोड़ का मुनाफा हुआ है, जबकि जून तिमाही में बैंक को 120 करोड़ का नुकसान हुआ था. हालांकि सालाना आधार पर बैंक का मुनाफा करीब 56 फीसदी घट गया है. दूसरी तिमाही में बैंक की प्रोविजनिंग 34 फीसदी घटी है. ग्रॉस एनपीए 8.81 फीसदी से घटकर 8.54 फीसदी रह गया है. नेट एनपीए 4.19 फीसदी से घटकर 3.65 फीसदी रह गया है. संदीप जैन ने शेयर के लिए 390 रुपये का लक्ष्य दिया है. नालंदा सिक्युरिटीज ने शेयर के लिए 387 रुपये का लक्ष्य दिया है. शेयर का करंट प्राइस 360 रुपये है.

कोटक महिंद्रा बैंक

कोटक महिंद्रा बैंक का मुनाफा दूसरी तिमाही में 21 फीसदी बढ़कर 1747 करोड़ रुपये हो गया है. बैंक की लोनबुक बढ़कर 184940 करोड़ रुपये हो गई है. इसमें रिटले लोन का हिस्सा 50 फीसदी है. बैंक का बिजनेस मजबूत है, कस्टमर बेस लगातार बढ़ रहा है. ग्रॉस एनपीए 2.17 फीसदी से घटकर 2.15 फीसदी रह गया है. बैंक के नेटवर्क में 1425 ब्रांच और 2236 ATMs हैं. जगदीश ठक्कर ने शेयर में 25 फीस दी ग्रोथ के टारगेट के साथ निवेश्श की सलाह दी है. ब्रोकरेज हाउस के आर चोकसे ने शेयर के लिए 1461 रुपये और ICICI डायरेक्ट ने 1400 रुपये का लक्ष्य रखा है. करंट प्राइस 1163 रुपये के लिहाज से शेयर में 26 फीसदी रिटर्न मिल सकता है.

बैंक आॅफ बड़ौदा

बैंक आॅफ बड़ौदा का मुनाफा दूसरी तिमाही में करीब 20 फीसदी बढ़कर 425 करोड़ रुपये हो गया है. रिटेल बैंकिंग में अच्छी ग्रोथ है. प्रोविजनिंग घटी है. ग्रॉस एनपीए 12.46 फीसदी से घटकर 11.78 फीसदी रह गया है. संदीप जैन ने शेयर में 150 रुपये का लक्ष्य दिया है. करंट प्राइस 108 रुपये के लिहाज से शेयर में करीब 40 फीसदी रिटर्न मिल सकता है.

(नोट-निवेश की सलाह एक्सपर्ट्स व ब्रोकरेज हाउस के द्वारा दी गई हैं. कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें. मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है.)

Let’s block ads! (Why?)


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories