शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव पर RBI-SEBI की नजर, उचित कार्रवाई के लिए तैयार: रिजर्व बैंक

Sensex&nbsp

मुंबई: पिछले शुक्रवार को घरेलू शेयर बाजार में कुछ समय के लिए आई तेज गिरावट के चलते भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) और बाजार नियामक सेबी वित्तीय बाजार पर करीब से नजर बनाए हुए हैं। रिजर्व बैंक ने रविवार को यह बात कही। केंद्रीय बैंक ने बयान जारी करके कहा, ‘आरबीआई और भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) वित्तीय बाजार में हाल में आए उतार-चढ़ाव पर करीब से नजर बनाये हुए हैं और जरूरत पड़ने पर उचित कार्रवाई के लिये भी तैयार है।’

बंबई शेयर बाजार का प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स शुक्रवार को मजबूती के साथ खुला और अचानक दोपहर के कारोबार में 1,127.58 अंक यानी 3.03 प्रतिशत का गोता लगाकर 35,993.64 अंक के न्यूनतम स्तर पर आ गया। हालांकि बाद में इसमें तेज सुधार आया। अंत में सेंसेक्स 279.62 अंक की गिरावट के साथ 36,841.60 अंक पर बंद हुआ। पूरे कारोबार के दौरान इसमें 1,495.60 अंक का उतार-चढ़ाव आया। नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी 91.25 अंक की गिरावट के साथ 11,143.10 अंक पर बंद हुआ। बाजार में लगातार चौथे दिन गिरावट दर्ज की गई और इससे निवेशकों को 5.6 लाख करोड़ रुपए की चपत लगी।

विदेशी निवेशकों ने इस महीने अब तक भारतीय पूंजी बाजारों से 15,365 करोड़ रुपए (2.1 अरब डॉलर) की निकासी की है। जबकि अगस्त और जुलाई महीने में निवेशकों ने बाजार में निवेश किया था। एफपीआई की ओर से निकासी की अहम वजह वैश्विक स्तर पर व्यापार मोर्चे पर बढ़ता तनाव और चालू खाते के घाटे की चिंता रही।Sensex Todayअस्थायी आंकड़ों के अनुसार विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (एफपीआई) बुधवार को शुद्ध रूप से बिकवाल रहे और उन्होंने 2,184.55 करोड़ रुपए मूल्य के शेयर बेचे। वहीं, घरेलू संस्थागत निवेशकों (डीआईआई) ने 1,201.30 करोड़ रुपए मूल्य के शेयर खरीदे। वहीं, व्यापार मोर्चे पर तनाव बढ़ने की आशंकाओं के चलते पिछले दिनों रुपए की विनिमय दर में तेज गिरावट दर्ज की गई। हालांकि, शुक्रवार के कारोबारी दिन में डॉलर के मुकाबले रुपए 17 पैसे चढ़कर 72.20 रुपए प्रति डॉलर पर बंद हुआ। 

कारोबार  से जुड़ी और खबरें  यहां  पढ़ें BUSINESS NEWS , टेक्नोलॉजी सेक्शन के लिए  TECH NEWS पर क्लिक करें  और कार, बाइक से जुड़ी खबरें AUTO NEWS में पढ़ें। देश और दुन‍िया की सभी खबरों की ताजा अपडेट के ल‍िए जुड़िए हमारे FACEBOOK पेज से।

अगली खबर

Let’s block ads! (Why?)


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories