उषा इंटरनेशनल का कारोबार 20 प्रतिशत बढ़ाकर 3000 करोड़ रुपये करने की योजना

मुंबई, 16 सितंबर (भाषा) टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद बनाने वाली कंपनी उषा इंटरनेशनल की चालू वित्त वर्ष में कारोबार 20 प्रतिशत बढ़ाकर तीन हजार करोड़ रुपये तक पहुंचाने की योजना है। कंपनी का करीब 80 प्रतिशत राजस्व घरेलू टिकाऊ उपभोक्ता उत्पादों जैसे सिलाई मशीन, पंखे, डिजाइनर बल्ब आदि से प्राप्त होता है जबकि शेष राजस्व पानी के पंप, डीजल इंजन आदि जैसे इंजीनियरिंग उत्पादों से मिलता है। कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी दिनेश छाबरा ने पीटीआई -भाषा से कहा, ‘‘अपनी सभी कारोबारी श्रेणियों में आक्रामक कारोबारी योजना के तहत हम अपनी वृद्धि दर दोगुने से अधिक करना चाहते हैं। इस साल हम 20 प्रतिशत से अधिक वृद्धि के साथ तीन हजार करोड़ रुपये का कारोबार करना चाहते हैं।’’ छाबरा ने कहा, ‘‘हम घरेलू उपकरणों विशेषकर रसोई उपकरण श्रेणी में वृद्धि की अपार संभावनाएं देखते हैं। देश में विद्युतीकरण की गति बढ़ने से ग्रामीण क्षेत्रों में भी मिक्सर-ग्राइंडर की मांग बढ़ रही है। अत: हमारा मानना है कि रसोई उपकरण पर मुख्य जोर बना रहेगा।’’ उन्होंने कहा कि पंखा कारोबार हमेशा कंपनी की वृद्धि का इंजन रहा है और यह आगे भी बना रहेगा। पंखों के बाजार में कंपनी की 21 प्रतिशत हिस्सेदारी है और वह संगठित क्षेत्र की पंखों की कंपनी में दूसरी सबसे बड़ी कंपनी होने का दावा करती है। कपंनी की योजना इस साल खुदरा आउटलेटों की संख्या दोगुनी करने की भी योजना है। उन्होंने कहा कि कंपनी ग्रामीण क्षेत्रों में अपना वितरण नेटवर्क बढ़ाने पर ध्यान दे रही है। देशभर में कंपनी के 1,200 के करीब खुदरा स्टोंरों का नेटवर्क है। इनमें 54 कंपनी के अपने शो-रूम हैं जबकि शेष उषा जॉय स्टोर और मल्टीब्रांड बिक्री केन्द्र हैं। उषा सामाजिक क्षेत्र में भी काम कर रही है और गरीब वर्ग की महिलाओं को सिलाई कढ़ाई का प्रशिक्षण देकर उनकी उद्यमशीलता को बढ़ावा दे रही है। भाषा सुमन महाबीरमहाबीर

Let’s block ads! (Why?)


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories