औपचारिक क्षेत्र में 70 लाख से अधिक नौकरियां पैदा हुईं : मोदी

नई दिल्ली, 12 अगस्त (आईएएनएस)| विपक्ष के बेरोजगारी के मुद्दे को ‘राजनीतिक तिकड़म’ बताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछले एक वर्ष में केवल औपचारिक क्षेत्र में ही 70 लाख से अधिक नौकरियां पैदा हुई हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया ने मोदी के हवाले से बताया, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के आंकड़ों पर आधारित हमारे अध्ययन के अनुसार पिछले एक वर्ष में औपचारिक क्षेत्र में 70 लाख से अधिक नौकरियां पैदा हुई हैं।

विपक्ष पर हमला करते हुए मोदी ने कहा कि हमारी सरकार को नौकरियां पैदा न कर पाने के लिए दोषी ठहराने के बजाय मैं समझता हूं कि नौकरियों से जुड़े आंकड़ों की कमी है।

उन्होंने कहा, जाहिर तौर पर जानकारी के अभाव के कारण हमारे विरोधी इस स्थिति का फायदा उठाएंगे और नौकरियां पैदा करने में असफल रहने के लिए हमें दोषी ठहराएंगे।

मोदी ने विपक्ष द्वारा उठाए गए बेराजगारी के मुद्दे को भी ‘प्रोपोगंडा’ बताया।

उन्होंने कहा, यदि आप राज्य सरकारों द्वारा किए गए दावों को देखे- बंगाल का कहना है कि उसने 68 लाख नौकरियां पैदा की हैं और पिछली कर्नाटक सरकार ने दावा किया कि उसने 53 लाख नौकरियां पैदा की हैं – क्या हम यह कहना चाहते हैं कि देश की नौकरियां कुछ राज्यों में पैदा की जा रही हैं और दूसरे राज्य एवं पूरा देश नौकरियां पैदा नहीं कर पा रहा? विपक्ष द्वारा नौकरियों के मुद्दे पर फैलाया गया यह प्रोपोगंडा एक राजनीतिक तिकड़म है।

मोदी ने कहा कि अनौपचारिक क्षेत्र में करीब 80 प्रतिशत नौकरियां हैं और औपचारिक क्षेत्र में नौकरियों के पैदा होने से अनौपचारिक क्षेत्र में भी रोजगार बढ़ा है।

उन्होंने कहा, करीब तीन लाख गांव-स्तर के उद्यमी हैं, जो पूरे देश में जन सेवा केंद्र चलाते हैं और रोजगार पैदा करते हैं। मुद्रा योजना के तहत 12 करोड़ से अधिक ऋण दिया गया है।

मोदी ने कहा कि पिछले चार वर्षो में सड़क, रेलवे एवं आवास जैसे भारी निर्माण गतिविधियां हुई हैं और ये सभी नौकरियां पैदा करती हैं।

उन्होंने कहा, राष्ट्रीय हो या अंतर्राष्ट्रीय सभी रिपोर्ट दिखाते हैं कि भारत में गरीबी में गिरावट आई है। क्या हम नौकरियों के बिना ऐसी संभावना के बारे में सोच सकते हैं?

मोदी ने कहा कि पर्यटन अधिकतम रोजगार प्रदान करता है। देश का पर्यटन क्षेत्र तेजी से बढ़ रहा है और वर्ष 2017 में भारत में विदेशी पर्यटकों के आगमन के कारण इसमें 2016 से मुकाबले 14 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।

उन्होंने दावा किया कि विभिन्न एयरलाइंस मासिक आधार पर नए विमान जोड़ रही हैं और इस देश में मोबाइल विनिर्माण इकाइयों की संख्या बढ़कर 120 हो गई है।

उन्होंने कहा, केवल इनसे ही 4.5 लाख प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष नौकरियां पैदा हुई हैं।

(ये खबर सिंडिकेट फीड से ऑटो-पब्लिश की गई है. हेडलाइन को छोड़कर क्विंट हिंदी ने इस खबर में कोई बदलाव नहीं किया है.)

Let’s block ads! (Why?)


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories