सुकन्या समृद्धि योजना की मंद पड़ी रफ्तार

कमलेश मीना
कुचामनसिटी. सुकन्या समृद्धि योजना की कुचामन डाकघर क्षेत्र में कुछ रफ्तार मंद पड़ी हुई है। वित्तीय वर्ष 2017-18 में वर्ष 2016-17 से कम खाते खुले हैं। हालांकि वर्तमान वित्तीय वर्ष में अभी तक अच्छी तादाद में खाते खुलने से पिछले वर्ष का घाटा इस वर्ष पूरा होने उम्मीद है। जानकारी के मुताबिक कुचामन डाकघर क्षेत्र में वित्तीय वर्ष 2016-17 में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 950 खाते खोले गए थे, जो वित्तीय वर्ष 2017-18 में घटकर 825 रह गए। हालांकि यह अंतर ज्यादा नहीं है। फिर भी क्षेत्र में योजना का प्रचार-प्रसार कम होना प्रतीत होता है। साथ ही लोगों में भी जागरूकता की कमी हो सकती है। हालांकि वर्तमान में वित्तीय वर्ष 2018-19 में शुरुआत में ही योजना के तहत अच्छी तादाद में खाते खुलने से विभाग के लिए राहत की खबर है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में अभी तक 150 खाते खोले जा चुके हैं। इसके अलावा प्रतिदिन आवेदन आने का सिलसिला जारी है। डाक विभाग के अनुसार इस साल अच्छी तादाद में खाते खुल सकते हैं। गौरतलब है कि योजना की शुरुआत दिसम्बर 2014 में हुई थी। नागौर जिले में कुचामन डाकघर क्षेत्र के अंतर्गत बड़ी संख्या में गांव व शहर आते हैं। ऐसे में योजना को क्षेत्र से काफी उम्मीद है। जानकारों के अनुसार यह योजना केवल बेटियों के लिए हैं। ऐसे में बेटियों का ही योजना के तहत खाता खुलवाया जा सकता है। माता-पिता या संरक्षक बेटी के नाम से खाता खुलवा सकते हैं और योजना से लाभान्वित हो सकते हैं।

यह मिलते हैं लाभ
योजना के तहत जन्म से लेकर 10 वर्ष तक की बेटी का खाता खुलवाया जा सकता है। हालांकि जमाकर्ता व्यक्ति बेटी के नाम से सिर्फ एक ही खाता खोल सकता है। इसके अलावा माता-पिता व संरक्षक बेटियों का अलग-अलग एक खाता खुलवा सकते हैं। खाता एक हजार रुपए की जमा राशि से खुलवाया जा सकता है। साथ ही एक वर्ष में अधिकतम एक लाख 50 हजार रुपए जमा किए जा सकते हैं। योजना के तहत आयकर में छूट भी मिलती है।

21 वर्ष की आयु में निकाल सकते हैं पूरी राशि
विभाग के अनुसार सुकन्या समृद्धि योजना में बेटी की 14 साल की आयु तक राशि जमा करवाई जा सकती है। इसके बाद राशि जमा नहीं करवाई जा सकती। इसके अलावा बालिका के 18 वर्ष पूरे करने पर आधी राशि तथा 21 वर्ष पूरे होने पर पूरी राशि निकाली जा सकती है।

इनका कहना है
सुकन्या समृद्धि योजना के तहत वर्तमान वित्तीय वर्ष में अभी तक 150 खाते खोले जा चुके हैं। क्षेत्र में योजना को अच्छा रेस्पोंस मिल रहा है। इस बार भी अच्छी तादाद में योजना के तहत खाते खुलने की उम्मीद है।
– कमलेश खींची, डाकघर (योजना प्रभारी), कुचामनसिटी

Let’s block ads! (Why?)


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories