प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए जमीन तलाशने में जुटे अफसर

-48 हजार आवास बनवाने का एलडीए को मिला है लक्ष्य

-800 करोड़ रुपये होंगे निर्माण पर खर्च, रकम जुटाने के प्रयास तेज

एनबीटी संवाददाता, लखनऊ : प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत शहर में गरीबों के लिए आवास बनाना एलडीए के लिए चुनौती बन गया है। 48 हजार ईडब्ल्यूएस के मकान बनाने के लिए एलडीए को करीब 800 करोड़ रुपये की जरूरत है, इसीलिए एलडीए के अफसरों ने सभी योजनाओं में जमीनों की तलाश शुरू कर दी है। इसके अलावा निर्मित फ्लैट्स बेचकर रकम जुटाने के प्रयास भी तेज कर दिए गए हैं।

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत एलडीए को नए वित्तीय वर्ष में 48 हजार ईडब्ल्यूएस के मकान बनाने हैं। मकानों को बनाने के लिए एलडीए के सामने दो चुनौतियां हैं। पहली जमीन तलाशना और दूसरी आवास बनाने के लिए मद की व्यवस्था करना। दोनों ही परिस्थितियां एलडीए के मौजूदा हालात के अनुकूल नहीं हैं, इसीलिए एलडीए के अफसर परेशान हैं।

वीसी पीएन सिंह के अनुसार प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनाने का टारगेट हर हाल में पूरा किया जाएगा। इसके के लिए संबंधित अधिकारियों को जमीनों की तलाश तेज करने के निर्देश दे दिए गए। विभिन्न योजनाओं में खाली भूखंडों पर योजना के तहत मकान बनवाए जाएंगे। वीसी का कहना है कि आवासों व दुकानों की नीलामी और फ्लैट्स का पंजीकरण खोलकर आवासों को बनाने के लिए मद की व्यवस्था की जा रही है।

पिछला टारगेट ही नहीं हो सका है पूरा

एलडीए के अलावा आवास विकास परिषद को भी प्रदेश के आठ जोन में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान बनवाने हैं। नए वित्तीय वर्ष में पूरे प्रदेश में एक लाख से अधिक आवास बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है, लेकिन जमीन व मद के चक्कर में आवास विकास अब तक पिछला लक्ष्य ही पूरा नहीं कर पाया है। पिछले वित्तीय वर्ष में आवास विकास परिषद को 12 हजार ईडब्ल्यूएस के आवास बनाने का लक्ष्य दिया गया था। इस बार यह संख्या एक लाख से ऊपर पहुंच गई है। इसको लेकर शुक्रवार को आवास विकास परिषद के अफसरों ने बैठक कर जमीन चिह्नित करने की रणनीति तैयार की है। जल्द ही दुकानों व मकानों की नीलामी भी करवाई जाएगी।

Let’s block ads! (Why?)


Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Sunnywebmoney.Com


CONTACT US




Newsletter


Categories